छोटे भाई ने बड़े भाई को डूबते हुए देखा तो बचाने के लिए डिग्गी में लगा दी छलांग, दोनों ही नहीं जानते थे तैरना, डूबने से मौत

खेत की डिग्गी में डूबने से दो भाइयों की मौत

छोटे भाई ने बड़े भाई को डूबते हुए देखा तो बचाने के लिए डिग्गी में लगा दी छलांग,  दोनों ही नहीं जानते थे तैरना, डूबने से मौत

मृतक धर्मेंद्र (15) और देवीलाल मेघवाल (13) के शव बीकानेर के पीबीएम हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिवार वालों को सौंप दिए गए।

बीकानेर। राजस्थान के बीकानेर जिले में नापासर थाना क्षेत्र के गांव मूंडसर में एक खेत में बनी पानी की डिग्गी में डूबने से किशोर उम्र के दो सगे भाइयों की मृत्यु हो गई। दुर्घटना की जांच कर रहे एएसआई भागीरथ ने बताया कि मृतक धर्मेंद्र (15) और देवीलाल मेघवाल (13) के शव सोमवार को बीकानेर के पीबीएम हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिवार वालों को सौंप दिए गए। दोनों भाई रविवार शाम सात बजे मूंडसर के नजदीक अपने खेत में थे। खेत में पानी की विशाल डिग्गी बनी है, जिससे फव्वारा पद्धति से फसल सिंचाई की जाती है।

रविवार शाम डिग्गी में अंदर लगे बूस्टर में कोई खराबी आ गई। उसने पानी बाहर निकालना बंद कर दिया। इस पर बड़ा भाई डिग्गी में उतर कर बूस्टर को चेक कर रहा था तो संतुलन बिगड़ गया। वह डिग्गी में गिर गया। छोटे भाई ने उसे डूबते हुए देखा तो बचाने के लिए डिग्गी में छलांग लगा दी। दोनों ही भाई तैरना नहीं जानते थे और डूब गए।

एएसआई के अनुसार जिस समय यह घटना हुई,उस समय उनके परिवार के 1-2 सदस्य खेत में दूसरी तरफ दूर काम कर रहे थे। आसपास के अन्य खेतों में भी लोग अपने काम में व्यस्त थे। उन्होंने कुछ क्षण बाद देखा कि दोनों किशोर दिखाई नहीं दे रहे तो डिग्गी पर आकर देखा। दोनों डिग्गी में तैरते दिखाई दिया तो आनन-फानन में उन्हें बाहर निकाला गया।

Post Comment

Comment List

Latest News

नजदीक से गुजर रहे हाईटेंशन तार, हर पल मौत का साया नजदीक से गुजर रहे हाईटेंशन तार, हर पल मौत का साया
लोगों का छतों पर जाना भी मुश्किल हो रहा है। 220 केवी की लाइन के चपेट में आने के डर...
शादी की तैयारियों के बीच मेरिज गार्डन पहुंचा भारी भरकम मगरमच्छ, मचा हड़कम्प
अंबानी परिवार को मिली धमकी, फोन कर कहा, 'एचएन रिलाइंस फाउंडेशन अस्पताल को बम से उड़ा दिया जाएगा'
मोदी ने हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर एम्स का किया उद्घाटन
राष्ट्रीय दल बनते ही टीआरएस का बदला नाम, हुआ भारतीय राष्ट्र समिति
निचले स्तर पर ही सुनिश्चित हो रहा है लोगों की समस्याओं का निस्तारण - गहलोत
वर्तमान सरकार के राज में विकास का पहिया थम गया : राजेंद्र राठौड़