Dainik Navajyoti
राजस्थान कोटा

बच्चों ने बताया वह कैसा शिक्षक चाहते हैं

बच्चों ने बताया वह कैसा शिक्षक चाहते  हैं शिक्षक दिवस के अवसर पर दैनिक नवज्योति ने बंधा धर्मपुरा रोड़ स्थित विद्यांजलि एकेडमी के विद्यार्थियों के बीच एक लेखन प्रतियोगिता आयोजित की जिसका विषय था ‘आपकी नजर में एक शिक्षक कैसा होना चाहिए’। इस प्रतियागिता में विद्यांजलि एकेडमी के कक्षा छह से दसवीं तक के विद्यार्थियों ने भाग लिया।
Read More...
राजस्थान कोटा

बच्चों ने दिखाया हुनर, गणेश बनाकर दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

बच्चों ने दिखाया हुनर, गणेश बनाकर दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश विद्यार्थियों में कला के प्रति रुचि और उनके अंदर की प्रतिभा को प्रकट करने के उद्देश्य से गणेश चतुर्थी के अवसर पर दैनिक नवज्योति ने रावतभाटा रोड़ नयागांव स्थित स्प्रिंगडेल्स चिल्ड्रन स्कूल के विद्यार्थियों के बीच इवेंट आयोजित किया। इस इवेंट में स्कूल के विद्यार्थियों को गणपति थीम दी गई।
Read More...
अजमेर

मंत्रियों ने की प्रदेश में खुशहाली की कामना

मंत्रियों ने की प्रदेश में खुशहाली की कामना राज्य सरकार की ओर से सावन मास के आखिरी सोमवार के उपलक्ष्य में पुष्कर के प्रेमप्रकाश आश्रम स्थित माधेश्वर महादेव मंदिर में सहस्रधारा एवं रूद्राभिषेक का आयोजन किया गया।
Read More...
राजस्थान कोटा

असर खबर का : जिला शिक्षा अधिकारी तलब, मांगा जवाब

असर खबर का : जिला शिक्षा अधिकारी तलब, मांगा जवाब स्थाई लोक अदालत ने विद्यालयों के भवनों का मेंटीनेंस तथा अन्य आवश्यकताएं पूरी नहीं होने के मामले में सुनवाई करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक मुख्यालय और जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक को नोटिस जारी कर 23 अगस्त 2022 तक जवाब पेश करने के निर्देश दिए हैं।
Read More...
कोटा

असर खबर का : अगले ही दिन निगम ने हटाया कचरा

 असर खबर का : अगले ही दिन निगम ने हटाया कचरा दैनिक नवज्योति की खबर का बडा असर हुआ है। कोटा दक्षिण वार्ड 70 में कचरा सड़कों पर फैला हुआ था। यह समाचार 7 जुलाई के अंक में प्रकाशित हुआ था, जिसके बाद अगले ही दिन निगम ने इस कचरा पाइंट में पड़े कचरे को उठवा दिया और साफ-सफाई करवा दी।
Read More...
राजस्थान कोटा Top-News

खबर का असर- सोने के लिए रैन बसेरे व सामुदायिक भवनों में नहीं गए तो जबरन हटा देंगे

खबर का असर- सोने के लिए रैन बसेरे व सामुदायिक भवनों में नहीं गए तो जबरन हटा देंगे सड़क किनारे फुटपाथ व फ्लाई ओवर के नीचे खुले में सोने वालों पर हादसों का खतरे के मुद्दे को दैनिक नवज्योति ने प्रमुखता से उठाया
Read More...
ओपिनियन

75 साल बाद भी 80 करोड़ को मुफ्त राशन देने की जरूरत?

75 साल बाद भी 80 करोड़ को मुफ्त राशन देने की जरूरत? देश की बड़ी आबादी गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रही है। आजादी से लेकर अब तब देश से गरीबी का उन्मूलन नहीं हो सका है। यह जानकर हैरानी होती है कि 75 साल बाद भी 80 करोड़ जनसंख्या गरीब है। सरकार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत देश के 80 करोड़ गरीबों को दीपावली तक मुफ्त अनाज देगी। 75 वर्षों में ऐसी स्थिति क्यों आई की देश के 80 करोड़ लोगों के लिए दो वक्त के भोजन की व्यवस्था सरकार को करनी पड़ रही है।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में एक बार नाथी का बाड़ा चर्चा में है। हो भी क्यों ना हर कोई नेता नाथी का बाड़ा से ताल्लुकात रखे बिना नहीं रहते। इसके बिना उनकी पार भी नहीं पड़ती है। गुजरे जमाने में नाथी का बाड़ा केवल पाली जिले से ताल्लुकात रखता था लेकिन अब इसका थड़ा बदल कर सीकर के लक्ष्मणगढ़ इलाके में पहुंच गया है।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में इन दिनों एक बार फिर ललचाई नजरों को लेकर काफी खुसरफुसर है। दोनों दलों में नेताओं की नजरें भी दिल्ली की तरफ टिकी हैं। भगवा और हाथ वाले एक-एक गुट को दिल्ली वालों बड़ी आस है। दिल्ली वाले हैं कि सिर्फ चक्कर पर चक्कर कटवा रहे हैं और कोई फरमान जारी नहीं कर रहे। वे फिलहाल वजन टटोलने में लगे हुए हैं।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में इन दिनों हाथ वाले भाई लोग 19 और 27 के फेर में फंसे हुए हैं। दोनों खेमों के नेताओं के 11 महीनों से समझ में नहीं आ रहा कि आखिर इस फेर के चक्रव्यूह का तोड़ क्या है। दिल्ली वाले नेता भी इसके चलते चुप रहने में ही अपनी भलाई समझ रहे हैं।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे की राजनीति में केबिनेट रिशफलिंग को एक बार फिर शगूफा उठा है। शगूफा भी पिंकसिटी से लेकर लालकिले वाली नगरी तक दौड़ रहा है। रिशफलिंग को लेकर हर कोई अपने हिसाब से मायने निकाल रहा है। निकाले भी क्यों नहीं, राजधर्म आड़े जो आ रहा है। दिल्ली तक की भाग दौड़ में एक बात का खुलासा हुआ है कि आलाकमान को एक सूची को इंतजार है।
Read More...

जानिए राजकाज में क्या है खास?

जानिए राजकाज में क्या है खास? सूबे में हाथ वाली पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं है। दो खेमों में बंटे भाई लोग आपस में दो-दो हाथ करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। वैसे तो खुद को पार्टी का वफादार वर्कर साबित करने के लिए रात दिन बढ़कर दावे कर रहे हैं, लेकिन हकीकत यह है कि उनको अपने स्वार्थ के सिवाय 136 साल पुरानी पार्टी की इमेज से कोई लेना देना नहीं है।
Read More...

Advertisement

Advertisement