पक्षियों पर भारी पड़ा तूफान, पेड़ों के गिरने से हजारों पक्षियों की मृत्यु 

20-25 तोतों के भी मरने की सूचना है

पक्षियों पर भारी पड़ा तूफान, पेड़ों के गिरने से हजारों पक्षियों की मृत्यु 

पश्चिमी विक्षोभ के कारण शहर में मौसम में बदलाव के कारण बारिश का दौर चल रहा है। बारिश के साथ आंधी और तेज हवाएं चली। तेज तूफान के कारण बहुत से पेड़ गिर गए, जो पक्षियों पर भारी पड़े।

जयपुर। पश्चिमी विक्षोभ के कारण शहर में मौसम में बदलाव के कारण बारिश का दौर चल रहा है। बारिश के साथ आंधी और तेज हवाएं चली। तेज तूफान के कारण बहुत से पेड़ गिर गए, जो पक्षियों पर भारी पड़े। तेज तूफान से गिरे पेड़ों के कारण हजारों पक्षियों की मृत्यु हो गई। भूमि पर पेड़ गिरे हुए है और उन पेड़ों के आसपास हजारों की संख्या में पक्षियों का ढेर लगा हुआ नजर आया। सांगानेर रोड स्थित वाटिका में यह नजारा देखने को मिला। इसके अलावा आगरा रोड 20-25 तोतों के भी मरने की सूचना है। 

रक्षा संस्थान के अभिषेक बैरवा ने बताया कि सुबह से करीब 22 पक्षी रेस्क्यू किए गए है। अभी तक और कॉल्स पेंडिंग है। हमारे पास बहुत सारे फोन आए, जहां पेड़ों के गिरने से काफी पक्षियों की मृत्यु हो हुई है।

रोहित गंगवाल ने बताया कि सबसे ज्यादा तूफान का प्रभाव पक्षियों पर पड़ा है, क्योंकि इस समय कुछ प्रजातियों का घोंसला बनाने का समय है, कुछ का अंडे देने का और कुछ पक्षियों के नवजात अभी अंडो से बाहर आए है। इससे पक्षियों को काफी नुकसान हुआ है। 

 

Read More वाहनों में बिना अनुमति के मोडिफिकेशन करा कर दे रहे हादसों को न्यौता

Post Comment

Comment List

Latest News

कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे
ऐसे में इस बार पहले चरण की सीटों पर कम वोटिंग ने भाजपा को सोचने पर मजबूर कर दिया है।...
भारत में नहीं चाहिए 2 तरह के जवान, इंडिया की सरकार बनने पर अग्निवीर योजना को करेंगे समाप्त : राहुल
बड़े अंतर से हारेंगे अशोक गहलोत के बेटे चुनाव, मोदी की झोली में जा रही है सभी सीटें : अमित 
किडनी ट्रांसप्लांट के बाद मरीज की मौत, फोर्टिस अस्पताल में प्रदर्शन
इंडिया समूह को पहले चरण में लोगों ने पूरी तरह किया खारिज : मोदी
प्रतिबंध के बावजूद नौलाइयों में आग लगा रहे किसान
लाइसेंस मामले में झालावाड़, अवैध हथियार रखने में कोटा है अव्वल