मणिपुर हिंसा के बीच हजारों हथियार लूटे म्यांमार भेजे जाने की आशंका : रिपोर्ट

खुफिया एजेंसियों को  सता रहा हमले का डर

मणिपुर हिंसा के बीच हजारों हथियार लूटे म्यांमार भेजे जाने की आशंका : रिपोर्ट

रिपोर्ट के अनुसार, गोदाम, विभिन्न बल और रिजर्व बटालियनों के शस्त्रागार से हथियार लूटे गए हैं। इनकी कुल संख्या का वास्तविक अनुमान कुछ हफ्तों के बाद पूरा किया जाएगा।

इंफाल। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के दौरे के बीच मणिपुर में खुफिया एजेंसियों की चेतावनी से आशंकाएं बढ़ गई हैं। हिंसाग्रस्त मणिपुर में हजारों हथियारों लूट लिए गए हैं। खुफिया एजेंसियों और प्रशासन को डर है कि ये हथियार सीमा पार म्यांमार में आतंकी समूहों को थमाए जा सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, खुफिया एजेंसियों और प्रशासन को आशंका है कि कम से कम 4000 हथियारों को लूट लिया गया है। जबकि कारतूसों की संख्या अभी तक गिनी नहीं गई है। रिपोर्ट के अनुसार, गोदाम, विभिन्न बल और रिजर्व बटालियनों के शस्त्रागार से हथियार लूटे गए हैं। इनकी कुल संख्या का वास्तविक अनुमान कुछ हफ्तों के बाद पूरा किया जाएगा। एक अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट के अनुसार, लूटे गए हथियारों में एके सीरीज की अत्याधुनिक बंदूकें, एम 16 राइफल, सबमशीन गन, कार्बाइन और लेटेस्ट पिस्टल शामिल हैं।

सेना को निशाना बनाने की साजिश
एक शीर्ष अधिकारी के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में कहा गया कि ऐसी आशंका है कि लूटे गए हथियार म्यांमार में उग्रवादी समूहों के हाथ पहुंचाए गए हैं। यह बेहद डरावना है। किसी भी समुदाय के लिए 4000 हथियार छिपाना या रखना संभव नहीं है। इनपुट्स मिले हैं कि म्यांमार के आतंकी संगठनों को उनमें से कुछ हथियार मिल गए हैं जिनका इस्तेमाल वे राज्य में कानून- व्यवस्था बिगाड़ने और सेना को निशाना बनाने के लिए किया जा सकता है। एजेंसियों के संज्ञान में यह आया है कि राज्य में हिंसा भड़काने वाले कुछ समूह म्यांमार के आतंकी समूहों के संपर्क में हैं और उनके कुछ सदस्यों को हिंसा भड़कने के बाद हथियार भेजे हैं।

सेना ने जब्त किए हथियार
सोमवार को सेना ने एक बयान में कहा था कि चेकिंग अभियान के दौरान सैनिकों को मैगजीन के साथ एक इंसास राइफल, 5.56 एमएम गोला बारूद के 60 राउंड, एक चीनी हथगोला और एक डेटोनेटर बरामद किया है। सेना के अनुसार, इससे एक बड़ा हादसा टल गया है। मंगलवार को गृहमंत्री के दौरे से पहले अलग-अलग हिस्सों से करीब 25 उग्रवादियों को हथियारों के साथ अरेस्ट किया गया है।

अमित शाह ने कड़ाई से निपटने के दिए निर्देश
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता मणिपुर में शांति और समृद्धि है और उन्होंने सुरक्षा अधिकारियों को शांति भंग करने वाली किसी भी गतिविधि से कड़ाई से निपटने का निर्देश दिया है। अमित शाह ने इंफाल में पुलिस, सीएपीएफ, सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मणिपुर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के बाद यह बात कही।  उन्होंने ट्वीट किया कि इंफाल में मणिपुर पुलिस, सीएपीएफ और भारतीय सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में मणिपुर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की। मणिपुर की शांति और समृद्धि हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है, उन्हें शांति भंग करने वाली किसी भी गतिविधि से कड़ाई से निपटने का निर्देश दिया। गृह मंत्री जातीय हिंसा प्रभावित राज्य में शांति बहाल करने के प्रयासों के तहत वर्तमान में मणिपुर का दौरा कर रहे हैं।

Read More हरियाणा में चलती बस में लगी आग, 9 श्रद्धालुओं की मौत

Post Comment

Comment List

Latest News

किसान भूमि नीलामी बिल का केंद्र से अनुमोदन कराए भजनलाल सरकार : गहलोत किसान भूमि नीलामी बिल का केंद्र से अनुमोदन कराए भजनलाल सरकार : गहलोत
राज्यपाल ने यह बिल केन्द्र सरकार से अनुमोदन के लिए भेज दिया था, लेकिन अभी तक इसे केन्द्र सरकार से...
भीषण गर्मी में नरेगा श्रमिकों को काम करना पड़ रहा भारी, श्रमिक परिवारों की संख्या में कमी
30 लाख सरकारी पद भरकर युवाओं का भविष्य सुरक्षित करेगी कांग्रेस, अग्निवीर योजना होगी बंद : खड़गे
सिंधी कैंप बस स्टैंड पर यात्रियों की भारी भीड़, रोडवेज ने चलाई अतिरिक्त बसें
कांग्रेस ने जगन्नाथ पहाड़िया को दी श्रद्धांजलि
कश्मीर में आतंकवादी हमले में घायल दंपत्ति के घर पहुंचे आरआर तिवाड़ी, सरकार से की मुआवजे की मांग 
एयर इंडिया के विमान के इंजन में लगी आग, एयरपोर्ट पर की आपात लैंडिंग