1875 प्रत्याशियों का रिपोर्ट कार्ड: 35 फीसदी करोड़पति, 137 केवल साक्षर और 326 ने घोषित किए आपराधिक मामले

पांच साल में आपराधिक मामलों में लिप्त प्रत्याशियों की संख्या दो फीसदी बढ़ी एडीआर की विश्लेषण रिपोर्ट में खुलासा

1875 प्रत्याशियों का रिपोर्ट कार्ड: 35 फीसदी करोड़पति, 137 केवल साक्षर और 326 ने घोषित किए आपराधिक मामले

प्रत्याशियों की आयु पर गौर करें तो सामने आया कि 643 यानि 34 प्रतिशत उम्मीदवार तो ऐसे है, जिनकी आयु 25 से 40 वर्ष के बीच है।

जयपुर। राजस्थान विधानसभा का चुनाव लड़ रहे 1875 प्रत्याशियों में से 326 यानी 17 प्रतिशत उम्मीदवारों ने आपराधिक मामले घोषित किए हैं। इनमें से 236 प्रत्याशी तो ऐसे है, जिन पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। पिछली 2018 विधानसभा चुनाव में 2188 प्रत्याशियों में से 320 यानि 15 प्रतिशत उम्मीदवारों पर ही आपराधिक मामले दर्ज थे। इसमें गंभीर आपराधिक मामले वाले प्रत्याशी 195 थे। एडीआर की ओर से उम्मीदवारों के घोषित वित्तीय, आपराधिक, शिक्षा एवं लिंग के विवरणों के विश्लेषण के बाद रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। इस बार चुनाव लड़ने वाले 36 उम्मीदवार तो ऐसे है, जिन्होंने महिलाओं के ऊपर अत्याचार से संबंधित मामले घोषित किए हैं। इनमें एक प्रत्याशी ने तो अपने ऊपर बलात्कार से संबंधित मामला घोषित किया है। वहीं हत्या से संबंधित मामले घोषित करने वाले चार उम्मीदवार हैं।

259 प्रत्याशियों के पास पांच करोड़ से अधिक सम्पत्ति : चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों में से 259 उम्मीदवार तो ऐसे है, जिनकी संपत्ति पांच करोड़ से अधिक है। वहीं दो से पांच करोड़ तक की संपत्ति वाले 200, पांच लाख से दो करोड़ तक की संपत्ति वाले 408, दस से 50 लाख तक की संपत्ति वाले 501 और दस लाख तक की संपत्ति वाले 507 प्रत्याशी हैं। करोड़पतियों की सूची में बीजेपी के 176, कांग्रेस के 167, बीएसपी के 36, आप के 29 और रालोपा के 36 उम्मीदवार हैं। विधानसभा के पिछले 2018 के चुनाव में 27 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति थे, जबकि इस बार 35 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं। इसमें पहले नंबर पर रफीक मंडेलिया, दूसरे पर प्रेम सिंह बाजौर और तीसरे नंबर पर उदयलाल आंजना हैं। वहीं संपत्ति में सबसे निचले पायदान पर ब्यावर से निर्दलीय प्रत्याशी पुरुषोत्तम भाटी, मुंडावर से वेद प्रकाश यादव और नोखा से कन्हैया लाल हैं।

41 फीसदी की शिक्षा 5वीं से 12वीं के बीच 
2023 के चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों में 774 यानी 41 प्रतिशत तो ऐसे हैं, जिनकी शिक्षा पांचवीं से 12वीं के बीच है, जबकि 916 उम्मीदवार यानि 49 प्रतिशत ऐसे है, जिनकी शिक्षा स्नातक और इससे ज्यादा है। 37 उम्मीदवारों ने अपनी शिक्षा डिप्लोमा धारक बताई है। 137 उम्मीदवार साक्षर और 11 प्रत्याशी असाक्षर भी चुनाव मैदान में है।

643 की आयु 25 से 40 वर्ष के बीच
प्रत्याशियों की आयु पर गौर करें तो सामने आया कि 643 यानि 34 प्रतिशत उम्मीदवार तो ऐसे है, जिनकी आयु 25 से 40 वर्ष के बीच है। वहीं 868 यानि 46 प्रतिशत प्रत्याशियों की आयु 41 से 60 वर्ष के बीच और 356 की आयु 61 से 80 के बीच है, जबकि आठ प्रत्याशियों की आयु 80 साल से अधिक है।

Post Comment

Comment List

Latest News

छत्तीसगढ़ कोल ब्लॉक पर दोनों सीएम के बयानों से विरोधाभास: गहलोत छत्तीसगढ़ कोल ब्लॉक पर दोनों सीएम के बयानों से विरोधाभास: गहलोत
इस मुद्दे पर गुमराह कर रहे हैं या दोनों मुख्यमंत्री मिलकर अपने-अपने राजनीतिक हितों के अनुरूप जनता को गुमराह कर...
RPF ने पिछले 7 वर्षों में 'ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते' के तहत 84,119 बच्चों को बचाया
सुस्त निवेश से 10 वर्ष में घाटी आर्थिक विकास की रफ्तार : कांग्रेस
आतंकी हमलों की रोकथाम के लिए केंद्र करे गम्भीरता से प्रयास: गहलोत
बड़ी बड़ी बातें नहीं कर केन्द्र आतंकियों के खिलाफ करें सख्त कार्यवाही: डोटासरा
जयपुर संभाग में हुआ 9 लाख 92 हजार से ज्यादा वृक्षारोपण
औषधि के उच्च मानक तय करना जरूरी, विश्व स्तरीय विनियामक ढांचे की आवश्यकता है: नड्डा