भाजपा ने संकल्प पत्र नहीं, 'जुमला पत्र' किया जारी : विपक्ष 

महंगाई और बेरोजगारी का जिक्र नहीं 

भाजपा ने संकल्प पत्र नहीं, 'जुमला पत्र' किया जारी : विपक्ष 

लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा द्वारा जारी किए गए 'संकल्प पत्र' को विपक्षी दलों ने 'जुमला पत्र'  करार दिया है।

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा द्वारा जारी किए गए 'संकल्प पत्र' को विपक्षी दलों ने 'जुमला पत्र'  करार दिया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि अपने कार्यकाल में उन्होंने(पीएम मोदी) ऐसा कोई बड़ा काम नहीं किया जिससे देश की जनता, युवाओं, किसानों को लाभ हो, महंगाई इतनी बढ़ गई है, उसकी उन्हें फिक्र नहीं है, उन्होंने(पीएम मोदी) पहले जो ट्रेलर बताया है उसमें ना डीजल-पेट्रोल के दामों में कमी की बात की गई और ना ही गैस सिलेंडर की, इससे साबित होता है कि उनके पास लोगों को देने के लिए कुछ खास नहीं है। 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि भाजपा के मेनिफेस्टो और नरेंद्र मोदी के भाषण से दो शब्द गायब हैं, महंगाई और बेरोज़गारी, लोगों के जीवन से जुड़े सबसे अहम मुद्दों पर भाजपा चर्चा तक नहीं करना चाहती।

'इंडिया' का प्लान बिलकुल स्पष्ट है , 30 लाख पदों पर भर्ती और हर शिक्षित युवा को एक लाख की पक्की नौकरी, युवा इस बार मोदी के झांसे में नहीं आने वाला, अब वो कांग्रेस का हाथ मज़बूत कर देश में ‘रोज़गार क्रांति’ लाएगा। भाजपा के 'संकल्प पत्र' पर आप नेता और दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने कहा कि भाजपा ने घोषणापत्र नहीं बल्कि 'जुमला पत्र' पूरे देश को दिया है। क्योंकि 10 साल सरकार चलाने के बाद भी वे अपने एक भी वादे को पूरा नहीं कर पाए, 25 फीसदी युवा बेरोजगार हैं, महंगाई अपनी चरम सीमा पर है, आज एक आम परिवार के लिए घर चलाना लगभग असंभव हो गया है, जितना खर्चा पूरे देश में आयुष्मान भारत योजना पर हुआ है वो दिल्ली के स्वास्थ्य बजट से भी कम है, इसी 'जुमला पत्र' में कहा गया था कि किसानों की आय दोगुना करेंगे, आज वो वादा गायब हो गया, इस संकल्प पत्र में एमएसपी कानून की बात तक नहीं की गई है। कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने कहा कि इससे पहले किसी भी सरकार को गोलपोस्ट बदलने की 'बीमारी' नहीं हुई, आपने 2014 में क्या कहा, 2019 में आपने उस पर कोई हिसाब नहीं दिया और आपने नया डाल दिया, 2019 में 'जुमले' और गोलपोस्ट और 2024 में आप 2047 के बारे में बात कर रहे हैं। भाजपा के 'संकल्प पत्र' पर बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि 60 फीसदी देश के युवा हैं जिनके बारे में कोई जिक्र नहीं है, कितनी नौकरी देंगे, नहीं देंगे इसकी चर्चा नहीं है। बिहार के साथ-साथ जितने गरीब प्रदेश हैं, उन्हें आगे बढ़ाने के लिए कुछ नहीं है, केवल इधर-उधर की बातें हैं। बिहार की जनता के लिए उस घोषणापत्र में क्या है? महंगाई और गरीबी को कैसे खत्म करेंगे, इसका भी कोई जिक्र नहीं है। भाजपा के लोगों ने दस सालों में क्या-क्या नहीं कहा, लेकिन क्या-क्या किया है ये सबको पता है। फूड सिक्योरिटी बिल कांग्रेस के जमाने से है, वे (भाजपा) अलग से क्या कर रहे हैं?

Post Comment

Comment List

Latest News