रूस ने भारत से खरीदे 4 अरब डॉलर के हथियार, भड़क सकता है अमेरिका

रूस ने भी एस-400 समेत कई मिसाइलें और अन्य सैन्य साजो सामान भारत को भेजे हैं

रूस ने भारत से खरीदे 4 अरब डॉलर के हथियार, भड़क सकता है अमेरिका

रूस के निर्यातकों ने भारत में बने 4 अरब डॉलर के हथियार और अन्य साजो सामान खरीदे हैं। दरअसल, अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण रूस का पैसा वोस्त्रो खातों में फंसा हुआ है।

मास्को। रूस दशकों से भारत का सबसे विश्वसनीय हथियार सप्लाई करने वाला देश रहा है। मिग, सुखोई जेट, ब्रह्मोस मिसाइल और अब एस-400 मिसाइल सिस्टम भारत और रूस के बीच सैन्य संबंधों का प्रतीक हैं। वहीं रूस ने भी एस-400 समेत कई मिसाइलें और अन्य सैन्य साजो सामान भारत को भेजे हैं। इस बीच रूस के निर्यातकों ने भारत में बने 4 अरब डॉलर के हथियार और अन्य साजो सामान खरीदे हैं। दरअसल, अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण रूस का पैसा वोस्त्रो खातों में फंसा हुआ है। इस पैसे को रूस ले नहीं जा रहा पा रहा है। इसी पैसे से रूस ने ये हथियार खरीदे हैं। रूस के व्यापारी अब भारतीय रुपए में व्यापार करना शुरू कर चुके हैं। अक्टूबर तक रूसी निर्यातकों के 8 अरब डॉलर वोस्त्रो खातों में फंसे हुए थे। इन खातों को भारत और रूस के बीच व्यापार को बढ़ावा देने के लिए खोला गया है। इसमें भारतीय रुपया है और एक घरेलू बैंक में इसे संचालित किया जाता है। मिंट की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में निवेश अवसरों की कमी के कारण यह पैसा वोस्त्रो खातों में फंसा हुआ था और उसका इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है। पिछले 6 महीने में रूस केवल 50 फीसदी फंड का ही इस्तेमाल कर पाया है।

भारत-रूस के बीच रेकॉर्ड व्यापार
वोस्त्रो में फंसे इस पैसे का एक बड़ा हिस्सा पिछले 8 महीने में इस्तेमाल किया गया है। भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों को रूस के साथ स्थानीय मुद्रा में लेनदेन को मंजूरी दी थी। रूस भारत से सामानों का आयात करने के लिए इन वोस्त्रो खातों में मौजूद पैसों का इस्तेमाल करता है। भारत रूस कसे मशीनरी, आॅटो पार्ट और अन्य इंजीनियर के सामानों की आपूर्ति करता है। इन खातों में पैसा तब बहुत ज्यादा बढ़ गया जब रूस ने बहुत बड़े पैमाने पर भारत को सस्ती दर पर तेल का निर्यात करना शुरू किया।

रूस भारत को तेल का निर्यात करने वाले शीर्ष 2 देशों में शामिल हो गया। यूक्रेन युद्ध के बाद पश्चिमी देशों ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए थे और इसके बाद उसने भारत को तेल का निर्यात किया। भारत ने रूस को चीनी मुद्रा और यूएई की मुद्रा में पहले कई बार भुगतान किया है। हालांकि अब रुपये में भी व्यापार हो रहा है। भारत का रूस से आयात जहां 60 अरब डॉलर को पार कर गया है, वहीं भारत का निर्यात भी 4 अरब डॉलर तक पहुंच गया है। रूस को भारत के हथियार और अन्य साजोसामान बेचने से पश्चिमी देश भड़क सकते हैं। इन देशों ने रूस के खिलाफ कड़े प्रतिबंध लगाए हैं ताकि उसे यूक्रेन के मामले में झुकाया जा सके। हालांकि ऐसा होता नहीं दिख रहा है और रूस लगातार हमले कर रहा है।

 

Read More अमेरिका में एक छोटा विमान क्रैश, 2 लोगों की मौत

Tags: arms

Post Comment

Comment List

Latest News

जेडीए ने अवैध निर्माण किए ध्वस्त, 200 से अधिक अवैध निर्माणों को तोड़ा जाएगा जेडीए ने अवैध निर्माण किए ध्वस्त, 200 से अधिक अवैध निर्माणों को तोड़ा जाएगा
शहर में अवैध निर्माण एवं अतिक्रमणों को लेकर की जा रही कार्रवाई के दौरान जयपुर विकास प्राधिकरण के प्रवर्तन दस्ते...
सदन में अब नहीं चल पाएगी भाजपा की मनमानी: कांग्रेस
"स्वस्थ और तंदुरुस्त राजस्थान": इस बार के बजट में चिकित्सा और स्वास्थ्य पर होगा सर्वाधिक फोकस
डंपर चालक ने ली बाइक सवार की जान
जनता के सामने एक्सपोज हो चुकी मोदी की गारंटी: गहलोत
मोदी 30 जून को करेंगे मन की बात, देशवासियों से मांगे सुझाव
High Court के निर्देश पर अवैध खनन के खिलाफ जांच अभियान