जिन पत्थरों को बख्शी थी धड़कन, जुबां मिली तो हम पर ही बरस पड़े : राजे

भैरोसिंह शेखावत पर पुस्तक विमोचन में बोलीं, वे ही मुझे राजस्थान की राजनीति में लाए

जिन पत्थरों को बख्शी थी धड़कन, जुबां मिली तो हम पर ही बरस पड़े : राजे

वसुन्धरा बोली : भैंरोसिंह एकदम सही कहते थे, मुझे अहसास भी हुआ

जयपुर। पूर्व उपराष्ट्रपति भैंरोसिंह शेखावत पर लिखी धरती पुत्र भैंरोसिंह शेखावत पुस्तक के विमोचन कार्यक्रम में सोमवार को बिड़ला ऑडिटोरियम में पूर्व सीएम व भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुन्धरा राजे ने कहा कि मैं शेखावत की चलती फिरती राजनीति की पाठशाला की विद्यार्थी थी। उससे मैं ही नहीं, कई राजनेता तालीम लेकर निखरे हैं। राजस्थान की गंभीर राजनीति में वे ही मुझे लेकर आए। आज मेरे मुकाम में उनकी अहम भूमिका है। वे कहते थे कि राजनीति में जितनी बाधायें आती हैं, जितना कठिन समय आता है। व्यक्ति उतना ही तप कर मजबूत होता है। ऐसे ही दौरे में अपने परायों की पहचान होती है।


मुश्किलें आती हैं तो सबसे पहले अधिकतर वे इंसान ही आपसे अलग होते हैं जिनकी आपने सबसे अधिक मदद की हो। इसलिए टीम का चयन सोच समझकर करें। उनकी इस बात का मुझे कई बार अहसास होता रहा है। वो एकदम सही कहते थे, ‘हम ही ने बख्शी थी धड़कनें जिन पत्थरों को, जुबां जब उन्हें मिली तो हम ही पर बरस पड़े’। वे जब 1996 में इलाज कराने विदेश गए तो जिन लोगों की उन्होंने खूब मदद की वे ही सरकार गिराने का ऑपरेशन चला रहे थे। राजनीति में वे सभी से मित्रता रखते थे, लेकिन पार्टी की बात आती थी तो किसी से समझौता नहीं करते थे। उनसे ही सीखा कि राजनीति को सेवा नीति बनाओ। उनकी सीख से ही हमारी सरकार रहीं तो अंतिम पंक्ति के लोगों को याद रख काम किए। उनसे जुड़े संस्मरण भी राजे ने सुनाए। कार्यक्रम में प्रदेशभर से लोग और भाजपा नेता, सांसद, विधायक, पूर्व जनप्रतिनिधि आए। सभागार भर गया। बाहर स्क्रीन पर भाषण सुना। जमकर राजे के पक्ष में कई बार नारेबाजी भी हुई।

कैलाश मेघवाल ने खुलकर कहा, 'विजनरी सीएम की आवश्यकता प्रदेश वसुन्धरा की तरफ देख रहा'
अध्यक्षता करते हुए पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने कहा कि राजस्थान को विजनरी सीएम की आवश्यकता है। राजस्थान वसुन्धरा राजे की ओर देख रहा है। क्योंकि उनमें प्रदेश को विजनरी सीएम दिखता है। राजे ने सीएम रहते हुए हर क्षेत्र में विजन से काम किया। वे भाजपा की राष्टÑीय उपाध्यक्ष हैं। इस नाते मैं वसुन्धरा से कहना चाहूंगा कि वे राजस्थान को दिशा देने से पीछे नहीं रहें। शेखावत से जुड़े भी कई संस्मरण सुनाए। कहा कि वे भाईचारे, संवेदनशीलता, मानवता की राजनीति करते थे। विशिष्ट अतिथि पूर्व मंत्री राजपाल सिंह शेखावत ने भैंरोसिंह के अपने से जुड़े संस्मरण सुनाते हुए कहा कि राजे सरकार के कामों में शेखावत के कामों की झलक मिलती है। उनके दामाद व विधायक नरपत सिंह राजवी ने भी उनके बारे में विचार व्यक्त किए।

Post Comment

Comment List

Latest News