पत्नी ने धर्म भाई संग धनतेरस पर पति की हत्या कर शव जलाया, दो दिन घर में रखा, दिवाली को फेंका

पत्नी ने धर्म भाई संग धनतेरस पर पति की हत्या कर शव जलाया, दो दिन घर में रखा, दिवाली को फेंका

निवारू गांव में बोरे में मिले शव का मामला: पति को था चरित्र पर शक, शराब पीकर रोजाना करता था मारपीट

 जयपुर। करधनी थाना इलाके में टीबावाली ढाणी गोविन्द नगर-11 गांव निवारू में पति की मारपीट और चरित्र पर हर रोज संदेह करने से परेशान महिला ने अपने धर्म भाई के साथ मिलकर धनतेरस के दिन पति की हत्या की थी। आरोपियों ने शव को जलाकर दो दिन तक बोरे में रखकर घर में छिपाए रखा। बाद में दिवाली के दिन शव को स्कूटी से ले जाकर सुनसान जगह पर फेंक दिया। पुलिस को शव के बारे में मंगलवार शाम को सूचना मिली। बाद में सीसीटीवी के आधार पर हत्या करने के आरोप में पत्नी मंजू राठौड़ और उसके धर्म भाई पंकज कुमार शर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) ऋचा तोमर ने बताया कि गत नौ नवम्बर को शाम छह बजे सूचना मिली कि टीबावाली ढाणी गोविन्दनगर-11 गांव निवारू में एक बोरे में युवक की सड़ी गली लाश मिली है। इस सूचना पर सीआई बीएल मीणा तत्काल मौके पर पहुंचे और जांच शुरू की। जांच में सामने आया कि अज्ञात युवक की करीब 9 से 10 दिन पहले हत्या की गई फिर बाद में शव को यहां फेंका गया था।

मृतक शक्ति सिंह
    घटनास्थल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे से खुला राज
    कपूर की गोली डालकर शव को दो दिन तक बड़े सूटकेस में बंद कर घर में छिपाए रखा
    एक माह से चल रही थी प्लानिंग, बेटी के जन्मदिन के दिन उतारा मौत के घाट


सीसीटीवी में कैद स्कूटी से हुआ खुलासा
डीसीपी तोमर ने बताया कि नौ नवम्बर की पूरी रात निवारू रोड, वैधजी का चौराहा, नांगल पुलिया, झोटवाड़ा, खातीपुरा के सैंकड़ों सीसीटीवी कैमरों को टीम ने देखा। फिर टीम को सीसीटीवी में दिवाली के दिन एक महिला और एक युवक स्कूटी में आते  दिखे।  इन दोनों के बीच में बैग रखा था। टीम ने दोनों को संदिग्ध मानते हुए जांच शुरू की।  एक अन्य टीम को पता चला कि शक्ति सिंह शेखावत नाम का युवक सत्यनगर झोटवाड़ा से बीते आठ दिन से लापता है, लेकिन उसकी गुमशुदगी दर्ज नहीं हुई है। शक्ति के घर पर खड़ी स्कूटी वही है, जो सीसीटीवी कैमरे में दिखी थी। सीआई बीएल मीणा ने मंजू राठौड़ पत्नी शक्ति सिंह शेखावत निवासी झोटवाड़ा और उसके धर्म भाई पंकज कुमार शर्मा निवासी खांडा पलसा जोधपुर को पकड़कर पूछताछ की तो दोनों ने जुर्म कबूल कर लिया।

हर रोज करता था चरित्र पर संदेह
सीआई मीणा ने बताया कि आरोपी मंजू और शक्ति सिंह की शादी को 20 साल हो चुके थे। दोनों का एक 17 साल की लड़की और 12 साल का लड़का है। शक्ति एक एडवरटाइजिंग कम्पनी में नौकरी करता था। वर्ष 2017 में मंजू राठौड़ अपने किसी पुरुष साथी के साथ माउंट आबू घूमने भी गई थी। पति शक्ति मंजू के चरित्र पर संदेह करता था और रोजाना उसे शराब पीकर पीटता था।


ऐसे की थी हत्या
पूछताछ में खुलासा हुआ कि मंजू ने गत दो नवम्बर की रात को अपने धर्म भाई पंकज को अपने घर सत्य नगर झोटवाड़ा में देर रात बुलाया और शराब के नशे में धुत पति शक्ति को दबोच लिया। पंकज ने रस्सी से शक्ति का गला घोंटकर हत्या कर दी। बाद में पंकज झोटवाड़ा चौमूं पुलिया से एक बड़ा सूटकेस खरीद कर लाया और सत्य नगर पर दस बजे के आसपास पहुंचकर शव को सूटकेस में पैक कर अपने कार्यस्थल लक्ष्य एंटरप्राइज 100 फीट रोड आॅफिस पर ले आया। कुछ देर बाद मंजू भी वहीं पहुंच गई। शव की पहचान ना हो पाए। इसलिए दोनों ने शव को कपूर की गोलियों के साथ सूटकेस सहित जला दिया। बाद में दिवाली के दिन शव को अलग से प्लास्टिक के कट्टे में डाला और फिर जूट के बोरे में डालकर निवारू गांव के पास सुनसान जगह पर फेंक कर आ गए।

Read More  ट्रैफिक अव्यवस्था और उधड़ी सड़कें काट रही जेब


बेटी के जन्मदिन पर की हत्या

मीणा ने बताया कि धनतेरस के दिन मृतक शक्ति सिंह की बेटी का जन्मदिन था। जन्मदिन के दिन ही पंकज शर्मा और मंजू ने मिलकर शक्ति की हत्या कर दी। हत्यारे प्रतिदिन दैनिक अखबार से लाश मिलने और अन्य कार्रवाई का अपडेट भी ले रहे थे। ये दोनों बुधवार को शव को देखने मौके पर जाने वाले थे, लेकिन इससे पहले ही पुलिस ने इन्हें पकड़ लिया। वहीं पंकज को व्यापार में भारी कर्जा हो गया था। इसलिए वह जयपुर आ गया। यहां पर वह मंजू के सम्पर्क में आने पर उसके कपड़ों के प्रतिष्ठान लक्ष्य एंटरप्राइजेज में काम करने के साथ वहीं रहने लगा। मंजू ने पंकज को कर्जदारों द्वारा पकड़ाये जाने का भय दिखाकर हत्याकांड में शामिल किया था।

Post Comment

Comment List

Latest News