राजस्थान में भी ओमिक्रॉन का खतरा : दक्षिण अफ्रीका से आए चारों मरीजों की जिनोम सिक्वेंसिंग रिपोर्ट का इंतजार, फिलहाल संपर्क में आए लोगों की सैंपलिंग, ट्रेसिंग

राजस्थान में भी ओमिक्रॉन का खतरा : दक्षिण अफ्रीका से आए चारों मरीजों की जिनोम सिक्वेंसिंग रिपोर्ट का इंतजार, फिलहाल संपर्क में आए लोगों की सैंपलिंग, ट्रेसिंग

जयपुर-सीकर में कुल मिलाकर अब तक 26 सैंपल लिए गए, सभी को जिनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा

 जयपुर। देश में ऑमिक्रॉन वैरिएंट के दो मरीज मिलने के बाद राजस्थान में भी अब हड़कंप मच गया है। साउथ अफ्रीका से आए चार मरीजों को पॉजिटिव पाए जाने के ऑमिक्रॉन वैरिएंट के संदिग्ध मानते हुए गुरुवार देर रात आरयूएचएस में भर्ती किया गया है और चारों के जिनोम सैंपलिंग के लिए एसएमएस मेडिकल कॉलेज में भेजे गए हैं। इसमें दंपती सहित दो बच्चे भी शामिल हैं। इसकी रिपोर्ट आने में भी तीन से चार दिन का समय लगेगा।


वहीं आरयूएचएस में भर्ती सभी चारों मरीजों की हालत तो खतरे से बाहर है और कोई लक्षण भी नहीं है, लेकिन इनकी सूचना मिलने के बाद अब चिकित्सा विभाग और आमजन की हालत खराब हो गई है। अब चिकित्सा विभाग शुक्रवार सुबह से ही इन चारों मरीजों के संपर्क में आने वालों की जानकारी जुटाकर उनके सैंपल ले रहा है। वहीं चिकित्सा विभाग ने इस परिवार की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की तो यह सम्पर्क कई जगह फैले हुए मिले हैं। ऐसे में सीकर के अजीतगढ़ से भी आठ लोगों के सैंपल लिए गए हैं। साथ ही जिस शादी में शरीक होने यह चारों मरीज आए थे उस शादी में शामिल लोगों की भी जानकारी जुटाई जा रही है। फिलहाल यह जानकारी सामने आई है कि शादी में शामिल होने वधु पक्ष का परिवार दिल्ली से आया था और लड़के वालों का सीकर से। ऐसे में सीएमएचओ ने दिल्ली चिकित्सा विभाग को भी पत्र लिखकर शादी में शामिल होने दिल्ली से आए लोगों की जानकारी साझा की है, जिससे दिल्ली में उनकी सैंपलिंग हो सके।

विदेश में तीन रिपोर्ट नेगेटिव, जयपुर में पॉजिटिव

चिकित्सा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार साउथ अफ्रीका से भारत आने से पहले चारों मरीजों ने 21, 22 और 23 नवम्बर को कोरोना जांच कराई थी। पहले साउथ अफ्रीका में कोरोना जांच कराई जो कि नेगेटिव आई। इसके बाद उन्होंने दुबई में दो बार जांच कराई और वो भी नेगेटिव आई। जब ये लोग जयपुर आए और चिकित्सा विभाग को उनकी जानकारी लगी तो उन्होंने जयपुर में निजी लैब में जांच कराने की बात कही और इस लैब की जांच में चारों पॉजिटिव पाए गए। इसके बाद सीएमएचओ की टीम ने चारों की सैंपलिंग कराई तो देर शाम इस रिपोर्ट में भी सभी पॉजिटिव मिले। इसके बाद आनन फानन में दंपत्ति और उनके दोनों बच्चों को आरयूएचएस में भर्ती किया गया।

ये था मामला
सीएमएचओ प्रथम डॉ. नरोत्तम शर्मा ने बताया कि जयपुर के दादी का फाटक निवासी यह परिवार 25 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका से जयपुर पहुंचा था। उसके बाद परिवार 28 नवंबर को जयपुर के सिटी प्लेस में शादी समारोह में शामिल हुआ था। इससे पहले आदर्श नगर में एक परिवार के कुछ सदस्य पॉजिटिव आए थे और साउथ अफ्रीका से आया यह परिवार उनके मिला था। आदर्श नगर वाले परिवार के सदस्यों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में इस साउथ अफ्रीका से आए परिवार का जयपुर आने और फिर जांच कराई तो पॉजिटिव आने का पता चला है। उसके बाद सीएमएचओ कार्यालय की ओर से शादी में शामिल लोगों से सम्पर्क कर उनकी जांच कराई जा रही है। सभी के सैम्पल जीनोम सीक्वेंसिंग लैब भेजे गए हैं।

ऑमिक्रॉन संदिग्ध मिलने पर आरयूएचएस अलर्ट
60 बैड का डेडिकेटेड फ्लोर रिजर्व

राजस्थान में ऑमिक्रॉन वैरियंट के चार संदिग्ध मरीज मिलने के बाद पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया है। मेडिकल डिपार्टमेंट ने इस वायरस से लड़ने के लिए जयपुर में तैयारियां शुरू कर दी है। राज्य के सबसे बड़े डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल राजस्थान स्वास्थ्य एवं विज्ञान विश्वविद्यालय आरयूएचएस में ऑमिक्रॉन वैरिएंट के संदिग्धों और पॉजिटिव पाए जाने वालों के लिए अलग से डेडिकेटेड वार्ड बनाया गया है। साथ ही क्रिटिकल मरीजों के लिए आईसीयू बेड भी रिजर्व किए गए है। इस नौ मंजिला 9 मंजिल्हॉस्पिटल में 5वें फ्लोर को ओमिक्रॉन संदिग्ध मरीजों या पॉजिटिव मरीजों के लिए रिजर्व कर दिया है। इस फ्लोर पर 60 हाई फ्लो ऑक्सीजन के जनरल बैड्स है। इसके अलावा तीसरे फ्लोर पर बने आईसीयू सेक्शन में 20 बेड की एक यूनिट को भी ओमिक्रॉन मरीजों के लिए रिजर्व कर दिया है।

सभी चारों मरीज सामान्य
    अस्पताल अधीक्षक डॉ. अजीत सिंह शक्तावत ने बताया कि जिन चार संदिग्ध मरीजों को आरयूएचएस में कल भर्ती किया है उनका स्वास्थ्य सामान्य है और उनमें कोविड के किसी भी तरह के लक्षण नजर नहीं आ रहे है। इन सभी मरीजों की तमाम ब्लड की जांचे करवा दी है और अब इनके सैंपल जिनोम सिक्वेंसिंग के लिए सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज में जांच के लिए भेजे गए है। जिसकी रिपोर्ट आना अभी बाकी है।

पूरे अस्पताल में 28 मरीज, कोरोना के दस
डॉ. अजीत सिंह ने बताया कि वर्तमान में पूरे हॉस्पिटल में 28 मरीज अभी भर्ती हैं, इसमें 10 मरीज कोविड के हैं जबकि 18 मरीज डेंगू व अन्य दूसरी बीमारी के है। साथ ही 10 कोरोना मरीज जो भर्ती हैं वे सभी जनरल बैड्स पर है और किसी को भी ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत नहीं है। उन्होंने बताया कि जो मरीज भर्ती है उनमें 4 तो ऑमिक्रोन के संदिग्ध हैं जबकि 6 जो मरीज है वें सामान्य है जिन्हे एक या दो दिन में छुट्टी दे दी जाएगी।

जयपुर में स्कूली छात्र सहित छह पॉजिटिव मिले, एक एसएमएस से भागा
जयपुर में शुक्रवार को छह पॉजिटिव मरीज मिले। मुरलीपुरा से 4, एसएमएस से 1 और वैशाली नगर से 1 मिला है। इनमें एक निजी स्कूल का छात्र है जो कि पिछले 15 दिनों से स्कूल ना जाकर घर से ही ऑनलाइन पढ़ाई कर रहा था। वहीं चार मरीज वो हैं जो साउथ अफ्रीका से जयपुर आए थे। इसके साथ ही एक मरीज अलवर निवासी मिला है जो कि एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में भर्ती था लेकिन जांच रिपोर्ट आने से पहले ही वह अस्पताल से बिना बताए ही चला गया, रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जब चिकित्सा विभाग की टीम संबंधित मरीज को तलाशने गई तो वह अस्पताल में नहीं मिला।

Post Comment

Comment List

Latest News

रॉकेट दागने के जवाब में इजरायल ने गाजा पर हवाई हमला किया रॉकेट दागने के जवाब में इजरायल ने गाजा पर हवाई हमला किया
फलिस्तीनी चिकित्सा सूत्रों ने कहा कि मुख्य रूप से इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन (हमास) और फ़ििलस्तीनी इस्लामिक जिहाद (पीआईजे) को लक्षित...
भारत जोड़ो यात्रा: स्थानीय कार्यकर्ताओं ने नहीं लगने दिए एआईसीसी के बैनर-पोस्टर
भारत जोड़ो यात्रा से प्रभावित होंगी पांच लोकसभा सीटें
फर्जी पट्टा बनाने वाले गिरोह का सरगना गिरफ्तार
अवैध संबंधों के शक में युवती को पिलाया कीटनाशक, मौत
हेमा देवड़ा और जय जवान जय किसान टीमें शीर्ष पर
सात साल बाद बांग्लादेश में वनडे खेलेगा भारत, पहला मैच आज