पीडब्ल्यूडी की अनदेखी: तीन साल से बदहाल है डगर

विद्यार्थियों और ग्रामीणों को आवाजाही में हो रही दिक्कत, 6 माह पूर्व ही 44 लाख का बजट स्वीकृत होने के बावजूद काम शुरू नहीं हुआ

पीडब्ल्यूडी की अनदेखी:  तीन साल से बदहाल है डगर

ग्राम पंचायत घाट का बराना के तहत आने वाले कोटडी गांव में जाने वाली लिंक सड़क में बड़े बड़े गड्ढे हो गए हैं। जगह-जगह रोड इतना जर्जर हो चुका है कि वाहन पर निकलना तो दूर पैदल तक निकलने में ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

घाट का बराना। कस्बे से होकर गुजर रहे कोटा दौसा मेगा हाइवे से कोटडी गांव को जोड़ने वाले लिंक रोड तीन हाल से बदहाल है। पीडब्ल्यूडी विभाग की अनदेखी के चलते ग्रामीणों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। अहम बात यह है कि छह माह पूर्व ही 44 लाख रुपए इस लिंक रोड के लिए स्वीकृत हो चुका है। इसके बावजूद  इस प्रमुख रोड की सूध नहीं ली जा रही है। जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत घाट का बराना के तहत आने वाले कोटडी गांव में जाने वाली लिंक सड़क में बड़े बड़े गड्ढे हो गए हैं। जगह-जगह रोड इतना जर्जर हो चुका है कि वाहन पर निकलना तो दूर पैदल तक निकलने में ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 

जर्जर सड़क से साइकिलें तक टूट जाती है
कोटडी चंद्रप्रकाश, गोविंद, जयप्रकाश, नितिन मीणा, मांगीलाल सैनी, किशन सैनी, दिनेश मीणा ने बताया कि गांव से मुख्य हाइवे करीब दो से तीन किलोमीटर दूर है।  घाट का बराना विद्यालय में छात्र छात्राएं साइकिल से पढ़ने के लिए जाते हैं। लेकिन गांव से मेन हाइवे तक की सड़क की हालत इतनी जर्जर है कि छात्र-छात्राओं की साइकिले गड्ढों में गिरकर टूट जाती है। जबकि क्षेत्र में हल्की बरसात भी हो जाती है तो वाहन से निकलना तो दूर पैदल जाने के लिए बारिश रुकने व धूप निकलने का इंतजार करना पढ़ता है। कई बार मांग करने पर लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला व स्थानीय विधायक चन्द्रकान्ता मेघवाल ने ग्रामीणों की मांग पर कोटा दौसा मेघा हाइवे से कोटडी गांव में जाने वाले लिंक रोड के लिए 44 लाख रुपए का बजट 6 माह पूर्व ही स्वीकृत  स्वीकृत किया था। लेकिन पीडब्ल्यूडी विभाग कई महीनों के गुजर जाने के बाद भी न ध्यान दे रहा है और न ही अभी सड़क का निमार्ण करवाने के लिए कोई तैयारी की है। ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर डॉ रविन्द्र गोस्वामी और लाखेरी उपखंड अधिकारी युगांतर शर्मा से गुहार लगाई है कि पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश देकर जल्द ही हाइवे से लिंक रोड बनवाने के आदेश देने चाहिए। ताकी ग्रामीणों को हो रही समस्या से निजात मिल सके।

यह है जनता का दर्द

गांव में आने का एक मात्र रास्ता है, बारिश हुई तो गांव से हाइवे तक पूरे रोड पर कीचड़ ही कीचड़ हो गया। लेकिन अभी भी अधिकारी सड़क के गढ्डों को भरने व सड़क का निमार्ण करने को तैयार नहीं है।
मांगीलाल सैनी, ग्रामीण।

Read More किरोड़ी मीणा के साथ गीत गाते हुए वोट डालने पहुंची महिलाएं

हाइवे से गांव में आने के लिए कई वर्षों पहले सड़क बनवाई गई थी। जब से आज तक कभी भी पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा ध्यान नहीं दिया गया। काफी गहरे गड्ढों में होकर गुजरना पड़ता हैं। अब उच्चाधिकारियों से सभी ग्रामवासियों का निवेदन है कि जल्द पीडब्ल्यूडी विभाग को निर्देशित कर सड़क निर्माण करवाया जाए। 
रामराज मीणा, ग्रामीण।

Read More बड़े अंतर से हारेंगे अशोक गहलोत के बेटे चुनाव, मोदी की झोली में जा रही है सभी सीटें : अमित 

हमारी मांग पर बजट स्वीकृत किया लेकिन अब पीडब्ल्यूडी विभाग की लापरवाही का खामियाजा हम सब ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। राज्य सरकार से मांग है कि पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारियों को निर्देशित कर लिंक सड़क का निमार्ण करावने की कृपा करें।
किशन सैनी, ग्रामीण।

Read More असर खबर का - आखिर जागा वन विभाग, अब तोड़ेगा 2 किमी सीसी सड़क

कोटडी लिंक रोड के लिए लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला व क्षेत्रिय विधायक चन्द्रकान्ता मेघवाल द्वारा ग्रामीणों की मांग पर बजट स्वीकृत किया गया था। लेकिन पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा बजट स्वीकृती के कई महिने बीत जाने के बाद भी अभी तक सड़क निर्माण नही किया गया। इसके लिए जल्द जिला कलेक्टर को लिखित रिपोर्ट सौंपकर पीडब्ल्यूडी विभाग को निर्देशित कर लिंक रोड बनवाने की मांग की जायेगी।
कृष्ण मुरारी मीणा, सरपंच घाट का बराना।

इनका कहना है 

कोटडी लिंक रोड के लिए तीन बार टेंडर जारी कर दिया जिसमे एक बार टेंडर निरस्त हो गया। वहीं दूसरी बार टेंडर की कॉपी नहीं मिली अब दिसम्बर के आखरी मे टेंडर प्रक्रिया शुरू की है। जल्द ही कोशिश करके लिंक रोड को शूरू करवाने का प्रयास है।
अनुज मीणा,एईएन पीडब्ल्यूडी विभाग  लाखेरी

Post Comment

Comment List

Latest News

कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे
ऐसे में इस बार पहले चरण की सीटों पर कम वोटिंग ने भाजपा को सोचने पर मजबूर कर दिया है।...
भारत में नहीं चाहिए 2 तरह के जवान, इंडिया की सरकार बनने पर अग्निवीर योजना को करेंगे समाप्त : राहुल
बड़े अंतर से हारेंगे अशोक गहलोत के बेटे चुनाव, मोदी की झोली में जा रही है सभी सीटें : अमित 
किडनी ट्रांसप्लांट के बाद मरीज की मौत, फोर्टिस अस्पताल में प्रदर्शन
इंडिया समूह को पहले चरण में लोगों ने पूरी तरह किया खारिज : मोदी
प्रतिबंध के बावजूद नौलाइयों में आग लगा रहे किसान
लाइसेंस मामले में झालावाड़, अवैध हथियार रखने में कोटा है अव्वल