15 जून तक होगी बृजभूषण के खिलाफ जांच पूरी : ठाकुर

खिलाड़ियों की कई मांगों पर हुई चर्चा

15 जून तक होगी बृजभूषण के खिलाफ जांच पूरी : ठाकुर

खेल मंत्री ने कहा, पहलवानों ने मांग की है कि उनके खिलाफ सभी एफआईआर वापस ली जानी चाहिए। पहलवानों ने यह भी अनुरोध किया कि तीन कार्यकाल पूरा कर चुके बृजभूषण सिंह और उनके सहयोगियों को दोबारा नहीं चुना जाना चाहिए।

नई दिल्ली। भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पहलवानों ने बुधवार को खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से मुलाकात की। करीब छह घंटे तक चली इस बैठक में दोनों पक्षों के बीच कई मामलों पर सहमति बनी है। खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने बैठक के बाद इस बात की जानकारी दी कि खिलाड़ियों के साथ बातचीत में 15 जून तक यौन शोषण के मामले में चार्जशीट दाखिल करने पर चर्चा हुई।
अनुराग ठाकुर ने कहा, पहलवानों के साथ सकरात्मक बातचीत बहुत संवेदनशील मु्द्दे पर हुई है। लगभग छह घंटे चली इस बैठक में जिन मुद्दे पर चर्चा हुई है उसमें जो आरोप लगाए गए हैं उन आरोपों की जांच पूरी करके 15 जून तक चार्जशीट दायर की जाए और रेसलिंग फेडरेशन का चुनाव 30 जून तक किया जाए। रेसलिंग फेडरेशन की आंतरिक शिकायत समिति बनाई जाए और उसकी अध्यक्षता कोई महिला करे।

खिलाड़ियों की कई मांगों पर हुई चर्चा
खेल मंत्री ने आगे कहा, पहलवानों ने मांग की है कि उनके खिलाफ सभी एफआईआर वापस ली जानी चाहिए। पहलवानों ने यह भी अनुरोध किया कि तीन कार्यकाल पूरा कर चुके बृजभूषण सिंह और उनके सहयोगियों को दोबारा नहीं चुना जाना चाहिए। 15 जून से पहले पहलवान कोई धरना प्रदर्शन नहीं करेंगे।

पहलवानों ने जनवरी में खोला था मोर्चा 
देश के शीर्ष पहलवान 138 दिन से बृजभूषण सिंह के खिलाफ मोर्चा खोले हुए थे। 18 जनवरी को पहली बार पहलवान धरने पर बैठे थे और 23 अप्रैल को दूसरी बार धरना शुरू किया। इसके बाद पहलवानों ने मौसम की मार झेली, पुलिस के साथ झड़प हुई। पहलवानों के खिलाफ एफआईआर भी हुई, लेकिन विरोध प्रदर्शन जारी रहा। हालांकि, पहलवानों और गृहमंत्री अमित शाह के बीच मुलाकात के बाद कहानी बदल गई और पहलवान काम पर लौट गए।

28 मई के बाद बदली कहानी
दरअसल, 28 मई के दिन पहलवान विरोध प्रदर्शन करने के लिए नए संसद भवन की तरफ जा रहे थे। इसी दिन नए संसद भवन का उद्घाटन हो रहा था। पुलिस ने उन्हें रोका तो पहलवानों के साथ उनकी हाथापाई हो गई। दिल्ली पुलिस ने सभी पहलवानों और उनके समर्थकों को हिरासत में ले लिया। इसके बाद जंतर-मंतर से पहलवानों का सामान हटा दिया गया। शाम तक सभी महिला पहलवान और रात तक पुरुष पहलवानों को छोड़ दिया गया। पहलवानों को फिर से जंतर-मंतर में बैठने की अनुमति नहीं मिली, लेकिन उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहा। 

चार जून को गृहमंत्री से हुई बात 
इस बीच सामने आया कि बृजभूषण पर महिला पहलवानों को गलत तरीके से छूने और यौन शोषण के कई आरोप लगे हैं। इस बीच गृहमंत्री अमित शाह ने चार जून को पहलवानों के साथ बात की। पांच जून को सभी बड़े पहलवानों ने अपनी सरकारी नौकरी जॉइन कर ली। 

Post Comment

Comment List

Latest News

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी किस कारण हुई निष्क्रिय, मोदी सरकार ने धारण किया मौनव्रत : खड़गे राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी किस कारण हुई निष्क्रिय, मोदी सरकार ने धारण किया मौनव्रत : खड़गे
वह किस वजह से निष्क्रिय हुई है। इस बारे में सरकार को स्पष्टीकरण देना चाहिए। खड़गे ने कहा कि नरेंद्र...
प्राचीनकाल से राष्ट्र धर्म निभा रहा है राव राजपूत समाज : भजनलाल
जन आकांक्षाओं पर शत-प्रतिशत खरा उतरेगा लोक कल्याणकारी बजट, सरकार ने हर तबके को दी सौगातें : जोगाराम
रेलवे पुल पर फोटो शूट करवा रहे थे दंपती, ट्रेन आती देख 90 फीट गहरी खाई में लगाई छलांग
लोकसभा में गौरव गोगोई बने कांग्रेस के उपनेता, सुरेश को नियुक्त किया मुख्य सचेतक
सोमालिया में जेल से भागने की कोशिश कर रहे कैदियों पर फायरिंग, 8 लोगों की मौत
शॉर्ट फिल्म झूठन की शूटिंग पूरी