machine
राजस्थान कोटा

एक एमआरआई मशीन पर पूरी हाड़ौती का भार

एक एमआरआई मशीन पर पूरी हाड़ौती का भार संभाग के सबसे बड़े व पुराने एमबीएस अस्पताल में अभी तक भी एमआरआई की सुविधा नहीं है। न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल की एक मात्र एमआरआई मशीन पर पूरे हाड़ौती का भार पड़ रहा है। वहां भी मरीजों को 20 से 25 दिन का इंतजार करना पड़ रहा है।
Read More...
राजस्थान जयपुर Top-News

ऐतिहासिक इमारतों पर तड़ित चालक यंत्र लगाना किया शुरू

ऐतिहासिक इमारतों पर तड़ित चालक यंत्र लगाना किया शुरू मानसून के शुरू होने से पूर्व गुलाबी नगरी के विभिन्न किले-महलों और इमारतों पर तड़ित चालक यंत्र लगाना शुरू किया हैं।
Read More...
राजस्थान कोटा

तालाब में जलकुम्भी का अम्बार, सात करोड़ की मशीन बेकार

तालाब में जलकुम्भी का अम्बार, सात करोड़ की मशीन बेकार शहर के बीचों बीच स्थित पर्यटक स्थल किशोर सागर तालाब में जल कुम्भी का अम्बार लगने से वहां दुर्गंध फेल रही है। जिससे वहां घूमने वालों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
Read More...
कोटा

इको और टीएमटी संचालन के लिए नही फैकल्टी

 इको और टीएमटी संचालन के लिए नही फैकल्टी मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग में टीएमटी और इको मशीन स्थापित कर दी है, लेकिन इसका लाभ मरीजों को नही मिल सका है। क्योंकि, इनके संचालन के लिए तकनीकी स्टाफ नही है।
Read More...
स्वास्थ्य कोटा

एक MRI पर 21 लाख की आबादी निर्भर

एक MRI पर 21 लाख की आबादी निर्भर राज्य सरकार ने सरकारी अस्पतालों में सभी तरह की नि:शुल्क जांच व्यवस्था 1 अप्रैल से शुरू कर दी है, लेकिन संसाधन वही है। स्थिति ऐसी है कि मेडिकल कॉलेज में स्थित एक मात्र एमआरआई मशीन पर पूरे जिले के 21 लाख लोग निर्भर है।
Read More...
स्वास्थ्य कोटा

मेडिकल कॉलेज में इको मशीन स्थापित

मेडिकल कॉलेज में इको मशीन स्थापित न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में एक और इको मशीन स्थापित कर दी है। इसका ट्रायल भी कर लिया है। पहले दिन दो लोगों पर ट्रायल कर चेक किया। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में बुधवार से सेवाएं प्रारंभ हो जाएगी।
Read More...
राजस्थान स्वास्थ्य जयपुर

शहर की हवा में घुले परागकण, अस्थमा और एलर्जी के मरीजों की बढ़ी मुसीबतें

शहर की हवा में घुले परागकण, अस्थमा और एलर्जी के मरीजों की बढ़ी मुसीबतें शहर की हवा में इन दिनों परागकण की मौजूदगी हो चुकी है और यह अस्थमा-एलर्जी के मरीजों के लिए मुसीबत बन गए हैं। होलोप्लेलिया इंटीग्रिफोलिया ट्री या चिलबिल ट्री जिसे आम भाषा में बंदर की रोटी भी कहा जाता है, यह शहर का सबसे एलर्जेनिक पौधा परागकण है।
Read More...

Advertisement

Advertisement