इंजीनियर के साथ हथियारों के दम पर लूट

4 बदमाशों को आदर्शनगर थाना पुलिस ने दबोचा

इंजीनियर के साथ हथियारों के दम पर लूट

पुलिस आरोपियों से अन्य वारदातों के संबंध में भी गहनता से पूछताछ कर रही है। पुलिस को उनसे हाईवे पर हुई लूट की अन्य वारदातें भी खुलने की उम्मीद है ।

अजमेर। परबतपुरा बाइपास क्षेत्र में एक निजी कंपनी के इंजीनियर के साथ हथियारों के दम पर लूट की वारदात करने वाले 4 बदमाशों को आदर्शनगर थाना पुलिस ने 24 घंटे में ही दबोच लिया। जिन्हें बापर्दा रखा गया है। उनसे पुलिस अधिकारी मामले में गहनता से पूछताछ करने में जुटे हुए हैं । आदर्श नगर थाना पुलिस के अनुसार गिरफ्तार आरोपियों में नाडी , केसरपुरा , मांगलियावास निवासी 21 वर्षीय सुरेश रावत उर्फ शेरा  पुत्र गुलाब सिंह रावत , थोड़ा का बाड़िया , केसरपुरा , मांगलियावास , अजमेर निवासी 21 वर्षीय लेखराज सिंह रावत  पुत्र मोहनसिंह रावत , ग्राम बड़लिया , आदर्शनगर निवासी 28 वर्षीय महावीर उर्फ महादेव रावत  पुत्र लाल सिंह रावत और मायापुर , मांगलियावास हाल झुतरिया का बाड़िया , ग्राम पालरा , अजमेर निवासी 30 वर्षीय छगन सिंह पुत्र शैतान सिंह रावत है। चारों आरोपियों से पुलिस मामले में गहनता से पूछताछ कर रही है। साथ ही पुलिस आरोपियों से अन्य वारदातों के संबंध में भी गहनता से पूछताछ कर रही है। पुलिस को उनसे हाईवे पर हुई लूट की अन्य वारदातें भी खुलने की उम्मीद है।

उल्लेखनीय है कि पीड़ित गुलाबगंज रायबरेली ( उप्र ) हाल किराएदार हेमराज का मकान , ग्राम घूघरा निवासी 23 वर्षीय पंकज कुमार  पुत्र रामप्रकाश है , जो एक निजी कंपनी के स्थानीय कार्यलय में इंजीनियर है। उसने आदर्श नगर थाने में 15 सितम्बर को रिपोर्ट दी थी कि वह 14 सितम्बर की रात को अपनी कंपनी के काम से फ्री होकर बाइक पर पीसांगन से घर लौट रहा था। रास्ते में परबतपुरा बाइपास से जब वह गुजर रहा था तो उस दौरान उसे दो बाइक पर आए चार बदमाशों ने उसे घेर लिया और उसके साथ मारपीट की। आरोपियों ने उसकी जेब से 16 हजार रुपए निकाल लिए। साथ ही कंपनी का टूल बैग व दस्तावेज और उसकी बाइक भी छीन कर ले गए। पुलिस ने उसकी रिपोर्ट पर लूट के आरोप में धारा 392 के तहत मुकदमा दर्ज किया था। मामले की जांच एएसआई भूरी सिंह कर रहे थे। 

एसपी चूनाराम जाट ने हाइवे पर कम्पनी इंजीनियर से लूट की वारदात को गंभीरता से लेते हुए सीआई सुगन सिंह को तुरंत ही थाने की विशेष टीम का गठन कर आरोपियों को दबोचने के निर्देश दिए थे। टीम ने तुरंत ही घटना स्थल व उसके आसपास के क्षेत्र में कैमरों को खंगालना शुरू किया। टीम के हेडकांस्टेबल धर्मेन्द्र और कांस्टेबल मुकेश उदय को आरोपियों के संबंध में सूचना मिल गई कि वे अपने शौक पूरा करने के लिए वारदात करते है। टीम ने एक-एक कर फिर चारों आरोपियों की पहचान कराई। उनकी पहचान होने पर चारों आरोपियों को दबोच लिया। जिनसे पुलिस ने लूट का कुछ माल बरामद कर लिया। जबकि कुछ अन्य माल बरामदगी के प्रयास किए जा रहे हैं।

Read More भाजपाइयों को सदमा, फर्राटा मारते निकल गई रेलमंत्री की ट्रेन

Post Comment

Comment List

Latest News