करवर की सड़कें बदहाल, 60 गांवों की जनता को भुगतना पड़ रहा खामियाजा

विभाग के अधिकारी मौन

करवर की सड़कें बदहाल, 60 गांवों की जनता को भुगतना पड़ रहा खामियाजा

क्षेत्र की सड़कों पर आमजन से लेकर जनप्रतिनिधि और अधिकारी आए दिन गुजरते रहते हैं, लेकिन इन सड़कों को लेकर कोई पहल नहीं करता।

करवर। करवर क्षेत्र की तमाम सड़के बड़े-बड़े गड्ढों में तब्दील हो गई है। ये सड़के जानलेवा साबित हो रही है। लेकिन विभाग के अधिकारी मौन है। सड़कों पर हो रहे गड्ढों का नवीनीकरण तो दूर, गड्ढों के कारण कोई हादसा न हो इसके लिए गड्ढों में मिट्टी भरने तक का काम नहीं किया गया। क्षेत्र में करीब आधा दर्जन पंचायत मुख्यालय के ग्रामीणों का सीधा जुड़ाव करवर कस्बे से है लेकिन इस क्षेत्र की तमाम सड़कें जानलेवा हो रही है। टूटी सड़कों का खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। बदहाल सड़कों पर आए दिन सड़क हादसों में लोग घायल हो रहे है। क्षेत्र में करवर से इंदरगढ़ सड़क मार्ग, तलवास सड़क मार्ग,देई वाया खजूरी, जरखोदा, नैनवां सड़क मार्ग गड्ढों में तब्दील हो चुका है , जिससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। करवर से इंद्रगढ़ ,करवर से देई वाया खजूरी,करवर से देई वाया खेमजी महाराज,सहण वाली सड़क पर काफी समय से गड्ढे हो रहे हैं। इन सड़कों पर पेचवर्क का काम नहीं होने से इस क्षेत्र की सभी सड़कें पुरी तरह से गड्ढों में तब्दील हो गई। करवर से नैनवां वाया जरखोदा इस सड़क मार्ग पर भी हर जगह गड्ढे मिलेंगे। क्षेत्र में हर सड़क मार्ग पर वाहन हिचकोले खाते चलते हैं, वाहन चालकों को इन सड़कों पर वाहन चलाना काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस क्षेत्र की सड़कों पर आमजन से लेकर जनप्रतिनिधि और अधिकारी आए दिन गुजरते रहते हैं, लेकिन इन सड़कों को लेकर कोई पहल नहीं करता। सड़क पर बने गड्ढे इस मार्ग से गुजरने वाले राहगीरों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है क्षेत्र में सड़कों की वजह से दो पहिए वाहन चालकों का चलना भी दुभर हो गया। 

इन पंचायत क्षेत्रों का सीधा व्यापारिक संबंध
 क्षेत्र की 14 पंचायत क्षेत्रों में वह ग्राम पंचायत क्षेत्र जिनका सीधा जुड़ाव है जिसमें जरखोदा, खजूरी ,आंतरदा, माणी , कैथुदा,सहण पंचायत क्षेत्र के लोग व्यापारिक कार्यों से करवर से जुड़े हुए हैं।

किसानों को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है
करवर क्षेत्र के किसानों का सीधा जुड़ाव देई कृषि उपज मंडी होने से किसानों को अपनी फसल को सुरक्षित पहुंचाने में सड़कों पर हो गड्ढों से हादसा होने का डर बना रहता है साथ ही उपज भी खराब हो जाती है जब ट्रैक्टर ट्राली सड़क पर पलटी खा जातीं हैं।

इस क्षेत्र की इन सड़कों पर जानलेवा गड्ढे
करवर से इंदरगढ़,करवर से आंतरदा - तलवास, करवर से देई वाया खेड़ी - सहण,करवर से देई वाया खजूरी, करवर से नैनवां वाया जरखोदा - बामनगांव,करवर से नैनवां वाया समिधी, समिधी से चावण्डपुरा, करवर से उनियारा वाया हीरापुर व कुम्हारीया , करवर से सकरामगंज - केदारा की झोपड़ियां तक सड़क मार्ग बदहाल है।

Read More पानी में बह गए करोड़ों रुपए ! फिर भी नहीं बुझी प्यास

क्षेत्र में प्रसिद्ध तीर्थ स्थल
क्षेत्र में बिजासन माता मंदिर, कमलेश्वर महादेव मंदिर, खेड़ी गांव में खेमजी महाराज का मंदिर, देई में खाटूश्यामजी का मंदिर, तलवास में धूंधलेश्वर महादेव मंदिर ,आरी के हनुमान जी मंदिर जहां दूर-दूर से श्रृद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है। 

Read More डेढ़ करोड़ रु. की भनक लगी तो बहन के घर डाला डाका, साथियों के साथ रुपए लेकर हो गया फरार

ग्रामीणों का दर्द 
करवर कस्बे से करीब 60 गांव से सैंकड़ों लोगों का यहां आना-जाना लगा रहता है। खराब सड़क के चलते कई बार लोग सड़क से गुजरते हुए गड्ढे नहीं देख पाते हैं और गिरकर चोटिल हो जाते हैं। बरसात में तो स्थिति और भी खराब हो गयी है। सड़क पर पानी भरा होने से लोग यह नहीं समझ नहीं पाते की कहा गड्ढे हैं और कहा सड़क और उसमें गिरकर दुर्घटना का ,शिकार हो रहे हैं।
- कृष्ण दीक्षित, ग्रामीण करवर

Read More बसों पर शिकंजा कसते ही भर गया परिवहन विभाग का खजाना

सड़क पर जगह-जगह बड़े-बड़े गड्ढे हो चुकें हैं। बरसात का सीजन होने के कारण इन गड्ढों में पानी भरने से दुर्घटना की आशंका भी बढ़ गई है। ग्रामीणों द्वारा सड़क को सुधारने के लिए बार-बार गुहार लगाने के बावजूद भी अधिकारियों व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि का कोई ध्यान नहीं है। अत: संबंधित विभाग इस समस्या पर ध्यान देकर ग्रामीणों को राहत पहुंचाएं अन्यथा कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती है।
- जितेन्द्र केवट, ग्रामीण करवर

करवर क्षेत्र के चारों तरफ की सड़कें काफी खराब हो चुकी, जिनको सही करवाने के लिए पीडब्ल्यूडी मंत्री को पत्र लिखकर अवगत कराया गया, लेकिन सार्वजनिक निर्माण विभाग की अनदेखी की वजह से क्षेत्र की सड़कों का समय पर नवीनीकरण नहीं हो पाता, विभाग द्वारा पेच वर्क किया जाता है उसमें भी लीपापोती होती है, जिसके कारण पेचवर्क ज्यादा दिन नहीं चलते।
- लोकेश कुमार गर्ग, कांग्रेस, मंडल अध्यक्ष करवर
 
करवर क्षेत्र की तमाम सड़कें बड़े-बड़े गड्ढों में तब्दील हो गई है, अब तो सड़क का डामर भी नजर नहीं आता विभाग को जल्द कार्य शुरू करना चाहिए ताकि आम जनता को राहत मिल सके।
- राजेंद्र नागर, किसान नेता, करवर 

करवर क्षैत्र की सभी सड़कें क्षतिग्रस्त है। कही वाहन चालक चोटिल हो चुके है पिछले चार साल से पेचवर्क तक नहीं हुआ क्षैत्र की सड़कें ठीक होना अतिआवश्यक है। कही बार राज्य सरकार व सार्वजनिक विभाग को पत्र लिखकर अवगत करवाने के बावजूद राज्य सरकार द्वारा क्षैत्र की उपेक्षा की गई जो कि करवर क्षैत्र की जनता के साथ राज्य की कांग्रेस सरकार ने कुठाराघात किया है।
-मुकेश कुमार जिन्दल, करवर भाजपा मंडल अध्यक्ष

करवर क्षेत्र की तमाम सड़कें जो बूंदी जिला मुख्यालय व नैनवां उपखंड मुख्यालय को को जोड़ने वाली सड़कों का हाल बेहाल हो रहा है। कहीं बार जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों को अवगत करा दिया , फिर भी सड़कों की समस्या जस की तस बनी हुई है सरकार ने सिर्फ कागजों में ही काम किए हैं। आगामी दिनों में नवरात्रा आ रही है। इंदरगढ़ बिजासन माताजी के दूर दूर से श्रदालुओं आते हैं नवरात्रि के पहले सड़क बननी चाहिए जिससे श्रदालुओं को परेशानी न हो न ही कोई दुर्घटना हो।
-पंकज दाधीच, उपसरपंच ग्राम पंचायत, करवर

देई से वाया खजूरी, पीपरवाला,करवर से मेगा हाइवे इंद्रगढ़ तक वाली सड़क मार्ग की निविदा प्रक्रियाधीन है। जल्द वर्क आर्डर जारी करके कार्य शुरू होगा जिससे क्षेत्र के आमजन को राहत मिलेगी, बामनगांव से जरखोदा वाली सड़क डीएलपी में है। करवर से आंतरदा, तलवास वाली सड़क का प्रपोजल बनाके भिजवा रखा है रखा है, लेकिन अभी तक स्वीकृति नहीं मिली है।
-जितेन्द्र वर्मा, सहायक अभियंता पीडब्ल्यूडी, नैनवां

Post Comment

Comment List

Latest News

जन भागीदारी विकास योजना में फंड आवंटित, परिसम्पत्ति सृजन के अटके काम शुरू होंगे जन भागीदारी विकास योजना में फंड आवंटित, परिसम्पत्ति सृजन के अटके काम शुरू होंगे
ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग ने महात्मा गांधी जन भागीदारी विकास योजना में 33 जिलों को 20 करोड़ रुपए का...
संग्रहाध्यक्ष, खोज व उत्खनन अधिकारी प्रतियोगी परीक्षा-2023 होगी 19 जून को
NDA Government राजस्थान पर मेहरबान, केंद्र ने राज्य को जारी किए 8421.38 करोड़
बाड़मेर-ऋषिकेश एक्सप्रेस रेलसेवा एलएचबी रैक से संचालित होगी
राज्यवर्धन ने सूचना सहायक पदों की संख्या बढ़ाई
कांग्रेस ने आंध्रप्रदेश के विशेष दर्जे पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरण
सीएम को लिखा पत्र : निकायों का पुनः परिसीमांकन एवं वार्डों की संख्या के निर्धारण का कार्य पारदर्शी तरीके से हो: राजेंद्र राठौड़