लाइब्रेरी डे पर शिक्षा विभाग की पहली बार पहल

शिक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक परिवर्तन ला रहे हैं

लाइब्रेरी डे पर शिक्षा विभाग की पहली बार पहल

इस अभिनव पहल के तहत प्रदेश के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में संचालित पुस्तकालयों का शिक्षा विभाग के अधिकारियों सहित डाइट के प्रधानाचार्य और फैकल्टी द्वारा गहन निरीक्षण भी किया गया।

जयपुर। प्रदेश के विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए राजस्थान स्कूल शिक्षा विभाग निरंतर प्रयासरत रहता है। विभाग के विभिन्न नवाचार एवं अभिनव पहल शिक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक परिवर्तन ला रहे हैं। इस कड़ी में विभाग ने सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों को लाइब्रेरी से लाभान्वित करने के लिए अभिनव पहल की है। नो बैग डे के अवसर पर प्रदेश के समस्त राजकीय विद्यालयों में लाइब्रेरी डे का आयोजन किया गया। इस अभिनव पहल के तहत प्रदेश के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में संचालित पुस्तकालयों का शिक्षा विभाग के अधिकारियों सहित डाइट के प्रधानाचार्य और फैकल्टी द्वारा गहन निरीक्षण भी किया गया। स्कूल शिक्षा विभाग के शासन सचिव नवीन जैन द्वारा प्रदत्त निर्देशानुसार निरीक्षणकर्ता अधिकारियों को विद्यालयों में लाइब्रेरी का कालांश लगाए जाने, लाइब्रेरी कक्ष में विद्यार्थियों के लिए बैठने की पर्याप्त व्यवस्था, पुस्तकों के अनुपात में पर्याप्त अलमारी व रैक की उपलब्धता, बुक्स के व्यवस्थित प्रदर्शन, स्टॉक एवं वितरण रजिस्टर, विद्यार्थी पुस्तकालय परिषद के गठन, पुस्तकालय प्रबंधन समिति, पुस्तकों की संख्या तथा वहां पर नियमित आने वाले पत्र-पत्रिकाओं की स्थिति आदि के बारे में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए निर्देशित किया गया। 

विभाग की इस अभिनव पहल में प्रदेशभर के 65471 राजकीय विद्यालयों में विद्यार्थियों द्वारा लगभग 16 लाख 65 हजार पुस्तकें इश्यू कराईं गईं। लाइब्रेरी डे पर बच्चों एवं शिक्षकों में जागरूकता लाने के लिए लगभग  63 हजार सेशंस लिए गए तथा विद्यार्थियों द्वारा लाइब्रेरी के महत्व को रेखांकित करने के लिए विभिन्न गतिविधियां भी आयोजित की गईं।

 

Tags: education

Post Comment

Comment List

Latest News