दस किमी सड़क के निर्माण में देरी, खुदाई करके भूले जिम्मेदार

लापरवाही: बारिश में लोगों को हो रही परेशानी

दस किमी सड़क के निर्माण में देरी, खुदाई करके भूले जिम्मेदार

गण्ेशपुरा से कलमोदिया की दस किलोमीटर सड़क का मामला।

हरनावदाशाहजी। हरनावदाशाहजी के गणेशपुरा से कलमोदिया की दस किलोमीटर सड़क के निर्माण में लगातार देरी से लोगों को काफी परेशानी हो रही है। सड़क की खुदाई करके अधूरा छोड़ दिया गा है। वाहन चालक बारिश में फिसल कर चोटिल हो रहे हैं। मानसून भी शुरु हो चुका है ऐसे में बरसात में गड्ढों में पानी भरने से राहगीरो की मुसीबत और बढ़ जाएगी। जानकारी के अनुसार निर्माण कार्य शुरू होने के बाद लोगों को आस जगी थी कि अब जल्द ही बरसों की पीड़ा से राहत मिल जाएगी। लोकसभा चुनाव से पहले सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता और हरनावदाशाहजी कस्बे के ग्रामीणों की बैठक भी हुई थी। बैठक में अधिशासी अभियंता नरेंद्र सिंह ने समझाइश करते हुए कहा था कि 4 माह में डामर युक्त सड़क का निर्माण करवा दिया जाएगा। ग्रामीण शिवराज लववंशी, सद्दाम मेवाती, निजाम अली, अरबाज खान, घनश्याम लववंशी, मुरली मेहरा, अमित गौतम, नितिन जैन, योगेश विजय, आशु मंसूरी, शिवराज नागर का कहना है कि कस्बे में तो सीसी सड़क बन गई है। लेकिन कलमोदिया तक अब भी परेशानी जस की तस बनी हुई है। काम की धीमी गति के कारण अब बारिश में और ज्यादा परेशानी होगी। सड़क को खोदकर छोड़ दिया गया है। आवाजाही में वाहन चालक दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। लोग आए दिन फिसलकर चोटिल हो रहे हैं। थोड़ी सी बारिश में गिट्टी और मिट्टी परेशानी का सबब बनी हुई है। यह विभाग की लापरवाही का नतीजा है। ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त है। 

अस्पताल जाने वाली सड़क भी मरीजों के लिए बनी मुसीबत 
इसी तरह छीपाबड़ौद को जोड़ने वाली एक और सड़क कस्बे वासियों और दर्जनों गांव के लोगों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है। यह सड़क इतनी जर्जर हो चुकी है कि मरीजों को अस्पताल आने-जाने में दिक्कत होती है। ग्रामीणों और कस्बे के लोगों का कहना है कि कस्बे में जो सीसी निर्माण चल रहा है, उसी के साथ अस्पताल तक भी सीसी सड़क बन जाए तो काफी राहत मिलेगी। 

कस्बेवासियों की यह है पीड़ा
कस्बेवासी यश पंचोली ने बताया कि कलमोदिया से हरनावदा शाहजी सड़क निर्माण कार्य बाधित पड़ा हुआ है और कही हो भी रहा है तो काफी धीमी गति से हो रहा है। टेंडर होने के काफी समय बाद भी  कार्य पूर्ण न होने पर  हरनावदा शाहजी क्षेत्र की जनता को अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। आए दिन सड़क दुर्घटन होने की आशंका बनी रहती है। ऐसा लगता है मानो सड़क में हुए गड्ढे दुर्घटना को न्योता दे रहे हो। इस बदहाल सड़क से आमजन की जान पर खतरा बना रहता है। कस्बेवास प्रहलाद मुदगल का कहना है कि इसी सड़क का अगला एरिया गणेशपुरा से मनोहरथाना तक जो कि झालावाड़ जिले में आता है। उक्त सड़क तकरीबन डेढ़ वर्ष पहले बनकर तैयार हो गई। यहां एक ही बजट में सभी छोटे बड़े गांव कस्बों में सीसी निर्माण ओर मार्ग में आने वाली सभी पुलियाओं को चौड़ा कर दिया गया। लेकिन बारां जिले में बनने वाली कलमोदिया तक सड़क और पुलियाओं के निर्माण में यहां कभी ठेकेदार को पेमेंट नहीं मिल रहा तो कभी बजट की कमी और अब फिर बारिश का बहाना मिल गया। जो भी कारण रहा हो लेकिन क्षैत्र के ग्रामीण बहुत परेशान हैं। कस्बेवास बबन मंसूरी का कहना है कि हरनावदाशाहजी कस्बे में हीरो शोरूम से लेकर सरकारी अस्पताल तक सीसी निर्माण की दरकार है। यहां बरसों पुरानी सड़क हे जिस पर अब सिर्फ गड्ढे ही दिखाई देते हैं। यहां बुजुर्ग मरीजों, गर्भवती महिलाओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गणेशपुरा से कलमोदिया वाली सीसी के साथ अस्पताल तक की सीसी भी हो जाये तो अच्छा रहेगा। कस्बेवास प्रतीक तिवारी का कहना है कि कलमोदिया सड़क एक आम समस्या है। बारिश का मौसम भी शुरू हो गया है। ऐसे में आने वाले दिनों में लोगों को समस्या का सामना करना पड़ेगा। आए दिन इस सड़क पर दुर्घटना होने की सूचना मिलती रहती है। यह रोड अगर समय रहते बन जाता है तो लोगों को आने वाले समय में काफी सुविधा होगी। साथ ही इसका परिवहन भी सुलभ होगा जिसमें निजी परिवहन तो होगा ही लेकिन सार्वजनिक परिवहन की सुविधा भी बढ़ जाएगी।

सार्वजनिक निर्माण विभाग छबड़ा के अधिशासी अभियंता नरेंद्र सिंह से सवाल-जवाब
सवाल- चुनाव से पहले आपने चार माह में हरनावदाशाहजी से कलमोदिया तक सड़क को तैयार करवाने की बात कही थी। लेकिन अब तक काम पूरा नहीं हुआ?
जवाब -  हां बिल्कुल हमने कहा था कि हमें बजट समय पर मिलता है तो हम 4 माह में सड़क डामर करवा देंगे। 6 करोड़ रुपए के लगभग कार्य किया जा चुका है जिसमें से ठेकेदार को सिर्फ और सिर्फ 1.34 लाख ही भुगतान मिला है। भुगतान समय पर मिलता तो अब तक कार्य पूर्ण होने को होता। 
सवाल- सड़क पहले से ही खराब है। अब ओर खोद कर गिट्टी डाल दी गई है।  हरनावदाशाहजी से कलमोदिया तक बारिश में ग्रामीणों वाहन चालकों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। उखड़ी सड़क पर हादसे ना हो इसके लिए विभाग द्वारा क्या उपाय किये जायेंगे? 
जवाब - बारिश में डामर का कार्य बंद रहेगा। सीसी निर्माण जारी रहेगा। पुराने डामर खो खोद कर गिट्टी डालने के बाद गिट्टी की कुटाई करवाने का काम जल्द करवायेंगे जिससे वाहन चालकों को राहत मिल सके।
सवाल- हरनावदाशाहजी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तक सीसी निर्माण की कस्बे के ग्रामीणों को आवश्यकता है। क्योंकि यहां मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 
जवाब -  इस संबध में ठेकेदार से बात करके बजट के अनुरूप हल निकालने की कोशिश की जाएगी। अगर हमारे पास सीसी की क्वांटिटी बची होगी तो अस्पताल तक बचे हुए सीसी को करवा दिया जायेगा। 
सवाल-  हरनावदाशाहजी कस्बे में विवेकानंद सर्किल से मनोहरथाना पुलिया तक सीसी जर्जर अवस्था में है। झालावाड़ जिले के गणेश पुरा से मनोहरथाना तक सभी पुराने सीसी ओर पुलियाओं को उखाड़ कर दुबारा बनाया गया है तो हरनावदाशाहजी में क्यों नहीं? 
जवाब -  निश्चित रूप से हम सभी पुराने सीसी पर दुबारा नये सीसी बनवाते। सभी पुलियाओं को फिर से बनाते, अगर हमारी मांग 30 करोड़ के अनूरूप बजट मिला होता। लेकिन बजट 30 करोड़ नहीं 11 करोड़ ही सेंशन हुआ। इसलिए पुराने सीसी पर दुबारा सीसी बनवाना संभव नहीं है। 

Read More FICCI FLO Jaipur Chapter ने की स्टार्टअप सीरीज पहल की घोषणा

Post Comment

Comment List

Latest News

कश्मीर में आतंकी गतिविधियों का बढ़ना चिंता का विषय, सरकार उठाएं प्रभावी कदम : गहलोत कश्मीर में आतंकी गतिविधियों का बढ़ना चिंता का विषय, सरकार उठाएं प्रभावी कदम : गहलोत
केंद्र सरकार से हमारा अनुरोध है कि आतंकवाद की समाप्ति के लिए प्रभावी कदम उठाए। आतंकवाद से लड़ाई में पूरा...
पुलिस थाना महेश नगर जयपुर दक्षिण की बड़ी कार्रवाई, मोबाईल चोरी करने वाली खट-खट गैंग का पर्दाफाश
मणिपुर-त्रिपुरा में हिंसा की घटनाएं प्रायोजित : कांग्रेस
ग्रीष्मकालीन अभिरुचि शिविर के तहत विशेष प्रदर्शनी का आयोजन, स्टूडेंट्स ने भीलवाड़ा शाहपुरा की फड़ को प्रदर्शित
RU के छात्र-छात्राओं की समस्याओं को लेकर विरोध प्रदर्शन
Stock Market Update : शेयर बाजार में लगातार तीसरे दिन तेजी, सेंसेक्स 51.69 अंक उछला
मुख्यमंत्री के पिता चोटिल, बाथरूम में फिसलकर गिरे, जयपुर किया सकता है रैफर