ट्री गार्ड ही सुरक्षित नहीं, पौधों की सुरक्षा कौन करे

निगम हर साल बांट रहा लाखों के ट्री गार्ड

ट्री गार्ड ही सुरक्षित नहीं, पौधों की सुरक्षा कौन करे

हालत यह है कि हर साल लाखों रुपए के ट्रीगार्ड बांटने के बाद भी पौधों के साथ ही ट्रीगार्ड की हालत भी खराब हो गई है।

कोटा। कोटा में हर साल मानसून के सीजन में लाखों पौधे लगाए जा रहे हैं। उनकी सुरक्षा के लिए नगर निगम द्वारा लाखों रुपए ट्रीगार्ड पर भी खर्च किए जा रहे हैं। उसके बावजूद न तो पौधे सुरक्षित हो पा रहे हैं और न ही ट्रीगार्ड सुरक्षित हैं। वहीं नगर निगम की ओर से इस बार फिर लाखों रुपए ट्रीगार्ड बांटने पर खर्च किए जाएंगे। मानसून सीजन में हर साल जून के अंत से लेकर जुलाई, अगस्त व सितम्बर तक शहर में विभिन्न संगठनों व संस्थाओं और सरकारी विभागों के द्वारा लाखों पौधे लगाए जाते हैÞ। जिनमें फलदार से लेकर फूल वाले व छायादार सभी तरह के पौधे शामिल हैं। उन पौधों को लगाने के बाद उनकी देखभाल के लिए ट्रीगार्ड भी लगाए जा रहे हैं। ये ट्रीगार्ड अधिकतर नगर निगम द्वारा लाखों रुपए बजट खर्च कर तैयार करवाए जाते हैं। उसके बाद उन ट्रीगार्ड को शहर में बांटा जाता है। लेकिन हालत यह है कि हर साल लाखों रुपए के ट्रीगार्ड बांटने के बाद भी न तो पौधे सुरक्षित हैं और न ही ट्रीगार्ड। 

कोटा उत्तर व दक्षिण में अलग-अलग बजट
नगर निगम कोटा उत्तर व कोटा दक्षिण में ट्रीगार्ड बनाकर बांटने के लिए अलग-अलग बजट खर्च किया जा रहा है। कोटा दक्षिण निगम में इस बार करीब 80 लाख रुपए के ट्रीगार्ड बनाकर शहर में बांटने की योजना है। जबकि पिछले साल एक चौथाई 20 लाख रुपए के ट्रीगार्ड बांटे गए थे। इसी तरह से कोटा उत्तर में भी लाखों रुपए ट्रीगार्ड पर खर्च किए जाएंगे। 

कहां कितने ट्री गार्ड दिए कोई पता नहीं, ट्री गार्ड हुए दुर्दशा के शिकार
नगर निगम हर साल ट्रीगार्ड पर लाखों रुपए खर्च कर रहा है। शहर में संस्थाओं व सरकारी विभागों को पौधों की सुरक्षा के लिए ये ट्रीगार्ड बांटे भी जा रहे हैं। लेकिन उनमें से बहुत कम ट्रीगार्ड व पौधे बचे हुए हैं। यहां तक कि निगम अधिकािरयों तक को पता नहीं है कि कहां कितने ट्रीगार्ड बांटे जा चुके हैं। 

निगम के पास दशहरा मैदान में ही दुर्दशा
नगर निगम की ओर से कार्यालय के पास ही दशहरा मैदान के पुराने पशु मेला स्थल पर पौधे लगाए गए थे। तत्कालीन आयुक्त कीर्ति राठौड़ के समय पौछे लगाने के बाद उनकी सुरक्षा के लिए ट्रीगार्ड भी लगाए गए थे। लेकिन वर्तमान में उन पौधों के साथ ही ट्रीगार्ड की हालत भी खराब हो गई है। कई ट्रीगार्ड टूट चुके हैं तो कई गिरने के कगार पर है। जबकि कुछ पर वहां रहने वाले खाना बदोश परिवारों ने कपड़े सुखा रखे हैं। वहीं अधिकतर ट्रीगार्ड तो गायब ही हो गए। स्मैकची व चोर उनका लोहा बेचकर खा गए। निगम अधिकािरयों को इसकी भनक तक नहीं लगी।  

Read More अब कॉलेजों में दो बार होंगे एडमिशन, दो बार प्लेसमेंट

नगर निगम कोटा दक्षिण द्वारा इस बार मानसून सीजन में पौधों की सुरक्षा के लिए करीब 80 लाख रुपए के ट्रीगार्ड बनवाए जाएंगे। प्रत्येक ट्रीगार्ड की कीमत करीब 600 रुपए होगी। इस बार ट्रीगार्ड की सुरक्षा व गिनती के लिए संस्थाओं से पौधों की संख्या व ट्रीगार्ड लगाने वाले स्थान की जानकारी लेटर हैड पर ली जाएगी। जिससे उनकी मॉनिटरिंगम की जा सके। वहीं इस बार ट्रीगार्ड का रंग बदला गया है। पहचान के लिए हर ट्रीगार्ड पर 2023 लिखा जा रहा है। पार्षदों व जनप्रतिनधियों को पहले की तुलना में दो गुना ट्रीगार्ड उनकी मांग पर दिए जाएंगे। इस कारण से राशि व ट्रीगार्ड की संख्या बढ़ी है। एक महीने में सभी ट्रीगार्ड बनकर तैयार हो जाएंगे। 
- ए.क्यू कुरैशी, उद्यान अधीक्षकनगर निगम कोटा दक्षिण   

Read More  सड़क के गहरे जख्म मांग रहे मरहम

Post Comment

Comment List

Latest News

राजस्थान में एक पेड़ मां के नाम अभियान का हुआ शुभारंभ राजस्थान में एक पेड़ मां के नाम अभियान का हुआ शुभारंभ
  मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने अभियान के तहत मुख्यमंत्री आवास पर अपनी माताजी गोमती देवी के साथ बेल का पौधा
उच्च गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए राज्य बजट में शामिल किए जाएंगे शिक्षकों के सुझाव: भजनलाल
Upcoming Week of Stock Market : जीएसटी परिषद के नतीजों का बाजार पर रहेगा असर
भजनलाल सरकार 5 साल में नहीं कर पाएगी एक भी भर्ती, भाजपा-आरएसएस की सोच घातक: डोटासरा
गौ रक्षार्थ 11 कुंडीय गायत्री महायज्ञ का हुआ आयोजन
NEET Paper Leak Conflict : सीबीआई ने दायर की पहली FIR, शिक्षा मंत्रालय की शिकायत पर हुई दर्ज
केन्या में कर वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन, 2 लोगों की मौत