कावेरी विवाद: शिवराजकुमार ने तमिल अभिनेता सिद्धार्थ से मांगी माफी

कावेरी विवाद: शिवराजकुमार ने तमिल अभिनेता सिद्धार्थ से मांगी माफी

कावेरी जल विवाद पर विरोध प्रदर्शन के बीच कन्नड़ समर्थक कार्यकर्ताओं द्वारा तमिल अभिनेता सिद्वार्थ की प्रेस (एजेंसी) रोके जाने के बाद फिल्म स्टार शिवराजकुमार ने कन्नड़ फिल्म उद्योग की ओर से सिद्धार्थ से माफी मांगी है।

बेंगलुरु। कावेरी जल विवाद पर विरोध प्रदर्शन के बीच कन्नड़ समर्थक कार्यकर्ताओं द्वारा तमिल अभिनेता सिद्वार्थ की प्रेस (एजेंसी) रोके जाने के बाद फिल्म स्टार शिवराजकुमार ने कन्नड़ फिल्म उद्योग की ओर से सिद्धार्थ से माफी मांगी है।

शिवराजकुमार ने कहा कि सिद्धार्थ की प्रेस (एजेंसी) को रोकना गलत था क्योंकि कर्नाटक के लोग स्वागत करने वाले माने जाते हैं। उन्होंने कहा, ''हाल ही में, एक अन्य उद्योग के अभिनेता की प्रेस मीट को बेंगलुरु में रोक दिया गया था। यह गलत है, कन्नड़ लोग हमेशा स्वागत करने के लिए जाने जाते हैं। पूरे कन्नड़ फिल्म उद्योग की ओर से, मैं सिद्धार्थ से दिल से माफी मांगता हूं। जो कुछ हुआ उससे आहत हूं। कन्नडिगा सभी भाषाओं और उनकी फिल्मों को पसंद करते हैं और उनका समर्थन भी करते हैं।

शिवराजकुमार ने कन्नड़ अभिनेताओं दर्शन, वशिष्ठ एन सिम्हा और ध्रुव सरजा सहित अन्य लोगों के साथ कावेरी जल विरोध पर माफी मांगी।  यह घटना तब हुई जब सिद्धार्थ फिल्म की स्क्रीनिंग से पहले एक प्रेस मीट में कन्नड़ संस्करण, (चिक्कू) का प्रचार कर रहे थे।

उल्लेखनीय है कि कन्नड़ समर्थक प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने तमिल फिल्म के प्रचार के समय पर सवाल उठाते हुए बैठक को बाधित कर दिया। आखिरकार सिद्धार्थ को कार्यक्रम बीच में ही छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 

Read More कश्मीर में तीन दिन में तीन हमलों ने खोल दी शांति बहाली के दावों की पोल : कांग्रेस

अभिनेता शिवराजकुमार ने यह भी कहा कि बिना सोचे-समझे विरोध प्रदर्शन और सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट करना कोई समाधान नहीं है, और यह भी सवाल किया कि जब कावेरी मुद्दा कर्नाटक और तमिलनाडु सरकारों द्वारा हल किया जाना है तो इस तरह का कृत्य क्या संकेत देता है।

Read More ओडिशा में शपथ ग्रहण कार्यक्रम : मोहन मांझी सीएम, केवीसिंह देव और प्रभाती परिदा डिप्टी सीएम समेत 13 मंत्री ले रहे शपथ

उन्होंने कहा ''मुझे बताएं, अभिनेता इसके बारे में क्या कर सकते हैं , इस मुद्दे को सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करना कर्नाटक और तमिलनाडु सरकारों पर है। किसान विवाद का केंद्र बिंदु हैं और कर्नाटक और तमिलनाडु के किसानों के बीच कोई अंतर नहीं है।

Read More छत्तीसगढ़ में सतनामी समाज के लोग प्रदर्शन के दौरान हुए उग्र, कलेक्टर कार्यालय में लगाई आग 

Post Comment

Comment List

Latest News

जन भागीदारी विकास योजना में फंड आवंटित, परिसम्पत्ति सृजन के अटके काम शुरू होंगे जन भागीदारी विकास योजना में फंड आवंटित, परिसम्पत्ति सृजन के अटके काम शुरू होंगे
ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग ने महात्मा गांधी जन भागीदारी विकास योजना में 33 जिलों को 20 करोड़ रुपए का...
संग्रहाध्यक्ष, खोज व उत्खनन अधिकारी प्रतियोगी परीक्षा-2023 होगी 19 जून को
NDA Government राजस्थान पर मेहरबान, केंद्र ने राज्य को जारी किए 8421.38 करोड़
बाड़मेर-ऋषिकेश एक्सप्रेस रेलसेवा एलएचबी रैक से संचालित होगी
राज्यवर्धन ने सूचना सहायक पदों की संख्या बढ़ाई
कांग्रेस ने आंध्रप्रदेश के विशेष दर्जे पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरण
सीएम को लिखा पत्र : निकायों का पुनः परिसीमांकन एवं वार्डों की संख्या के निर्धारण का कार्य पारदर्शी तरीके से हो: राजेंद्र राठौड़