वार्ड 10- जगपुरा में मुख्य नाले का निर्माण बड़ी समस्या, रोेड लाइटें भी गुल

वार्ड के कई हिस्सों में आज भी सड़कें कच्ची, कीचड़ से निकलना लोगों की मजबूरी, सीसी रोड और नालियां बनी लेकिन कई काम अब भी शेष

 वार्ड 10- जगपुरा में मुख्य नाले का निर्माण बड़ी समस्या, रोेड लाइटें भी गुल

वार्डवासियों ने बताया कि नगर निगम की ओर से जो सुविधाएं आमजन को मिलनी चाहिए, उनमें से हमे तो कुछ भी नहीं मिल रही है। वार्ड के कई हिस्सों में आज भी कच्ची सड़कें ही है। नालियां नहीं होने के कारण पानी की निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है। लोगों को कीचड़ में से निकलना पड़ता है।

कोटा । समस्याएं बहुत सारी हैं, तुम्हे कौन-कौनसी बताएं। ना पानी निकासी की कोई व्यवस्था है ना रोड लाइट जलती हैं और तो और इलाकें में सफाई तक नहीं होती है। यह कहना हैं कोटा नगर निगम दक्षिण के वार्ड नम्बर 10 के कुछ महिला-पुरूषों का। अपने इलाकें की समस्याएं बताते हुए वो कहते हैं कि केवल उन्ही स्थानों पर काम हुआ है जो पार्षद के समर्थक या उनके मिलने वाले हैं। वार्ड में थोड़ा बहुत काम जरूर हुआ है लेकिन आज भी वार्ड में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। इस वार्ड में जगपुरा, भीमपुरा, खेड़ा जगपुरा, उम्मेदपुरा, भामाशाह मंडी, इंडस्ट्रीयल एरिया, ओम एनक्लेव तथा कोलीपाड़ा आदि इलाकें आते हैं। वार्ड में करीब 7000 हजार से अधिक मतदाता हैं। संभवत: ये वार्ड शहर के बड़े वार्डों में से एक है। इस वार्ड के कुछ लोगों का कहना हंै कि बरसों से उनके इलाके में एक इंच तक गिट्टी नहीं लगी है। ना नई रोड लाइट लगी हैं ना पुरानी को ठीक किया गया है। आॅनलाइन और आॅफलाइन दोनों तरह से वार्ड की समस्याओं की शिकायतें दर्ज करवा चुके हैं लेकिन कभी सुनवाई नहीं हुई। वहीं वार्ड के कुछ लोगों का ये भी कहना है कि वार्ड के कई हिस्सों में सीसी रोड बन चुके हैं। जो काम 15 सालों में नहीं हुए वो इस बार हुए हैं। कई स्थानों पर बोरिंग/ट्यूबवेल लगाए गए हैं। नाली पटान के काम हुए हैं। वार्ड बड़ा है तो समस्याएं आज भी कई हैं लेकिन काफी काम हुए भी हैं। 

वार्ड की सबसे बड़ी जरूरत जगपुरा मेन झालावाड़ रोड, एन-एच-12 पर नया नाला बनवाना है। लोग कहते हैं कि पार्षद को काई भी काम कहो वो पूरा करवाने का प्रयास करते है। वार्ड के लोगों से बराकर सम्पर्क में रहते है। वार्डवासियों ने बताया कि नगर निगम की ओर से जो सुविधाएं आमजन को मिलनी चाहिए, उनमें से हमे तो कुछ भी नहीं मिल रही है। वार्ड के कई हिस्सों में आज भी कच्ची सड़कें ही है। नालियां नहीं होने के कारण पानी की निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है। लोगों को कीचड़ में से निकलना पड़ता है। रोड लाइट नहीं होने के कारण चोरों के हौंसले बुलन्द है, कई बार चोरियां हो चुकी हैं। जहां आज से 15 साल पहले सड़कें बनी थी वो अब उधड़ चुकी है। कचरे के ढ़ेर लगे हुए हैं। हमेशा बीमारियां फैलने की आशंका बनी रहती है।  वार्ड पार्षद का कहना है कि वार्ड के कई सीसी रोड बनवाए गए हैं। मुक्तिधाम में सीमेंट की कुर्सियां लगवाई गई हैं। वार्डवासियों की लगभग हर समस्या को दूर करने का प्रयास किया है। जहां-जहां से शिकायतें मिलती है उन्हे दूर करवाने की कोशिश करता हूं। हर वार्डवासी की समस्या को ध्यान से सुनता हंू। लोगों के सम्पर्क में रहता हंू। 

इनका कहना हैं
जगपुरा का मुख्य नाला बनवाना पहली प्राथमिकता हैं, पुराना नाला क्षमिग्रस्त हो चुका है, धस चुका है। वार्ड में पीने के पानी की पाइपलाइन का काम शुरू करवा दिया है। सफाईकर्मी कम होने के कारण सफाई से जुड़ी समस्याओं का समाधान पूरी तरह से नहीं हो पाता है लेकिन सफाई व्यवस्था पहले से ठीक हुई है। कई काम हो चुके हैं, कई होने बाकी है।                         -कमल मीणा, वार्ड पार्षद।                                                                                                                                                                                                                                                                                                       आज तक हमारे इलाकें में विकास के नाम पर कोई कार्य नहीं हुआ है। सड़Þकें खस्ताहाल में हैं। गांव में नालियां नहीं है। कचरा लेने के लिए जो टिपर आता है वो पूरे गांव में नहीं घूमता है। इतनी समस्याएं है कि लगता ही नहीं हम स्मार्ट के लोग हैं। जगपुरा में 2-3 रोड जरूर बनाए हैं। करीब 10 साल पहले लाइट लगाई गई थी उसके बाद किसी ने झाककर भी नहीं देखा। 
-सत्यनारायण बंजारा, वार्डवासी। 

वार्ड के कई इलाकों में सीसी रोड बन चुके हैं। नये बोरिंग करवाएं गए हैं। वार्ड की कई समस्याओं का समाधान हुआ हैं। कुछ समस्याएं अब भी बाकी हैं। पार्षद को कोई भी समस्या बताओ उसके समाधान के लिए तैयार रहते है। अभी भी कुछ स्थानों पर काम चल रहा है। पार्षद ने अच्छे काम करवाएं हैं। 
-प्रदीप बंजारा, वार्डवासी। 

Read More जेईई मेन 2024: अब तक 1.75 लाख यूनीक कैंडिंडेट्स ने किए आवेदन

Post Comment

Comment List

Latest News