जाने राजकाज में क्या है खास

जाने राजकाज में क्या है खास

सूबे में जब भी सबसे बड़ी पंचायत के चुनाव होते हैं, तो रामगढ़ वाले जुबेर भाई चर्चा में जरूर होते हैं। उनकी चर्चा एक तरफ ही नहीं बल्कि दोनों दलों में होती है।

चर्चा में रामगढ़ वाले
सूबे में जब भी सबसे बड़ी पंचायत के चुनाव होते हैं, तो रामगढ़ वाले जुबेर भाई चर्चा में जरूर होते हैं। उनकी चर्चा एक तरफ ही नहीं बल्कि दोनों दलों में होती है। हाथ वालों की पहली सूची में रामगढ़ से ज्योंही खान भाई का नाम आया, कइयों की बांछे खिल गई, तो कुछेक के चेहरे पर मायूसी छा गई। भाईसाहब के साथ किस्मत से एक जुमला जुड़ा हुआ है। और जुमला भी कुछ सालों से सटीक बैठ रहा है। सो कहने वालों का मुंह भी नहीं रोका जा सकता। जुमला है कि जब भी जुबेर भाई का विधानसभा में पगफेरा होता है, तब हाथ वालों को विपक्ष में ही बैठने का मौका मिलता है। सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में भी माला फेरी जा रही है कि इस बार भी ऊपर वाला जुबेर की मनोकामना जरूर पूरी करे। इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकाने पर खुसरफुसर है कि अगर रामगढ़ वाले भाईसाहब के सिर पर विजय का सेहरा बंधता है, तो नतीजा सबके सामने है और इस बार जुबेर भाई सदन में प्रवेश के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। 

वाह रे वकील साहब
इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के दफ्तर में आने वाले कई भाई लोग लक्ष्मणगढ़ वाले वकील साहब की चातुर्यता की चर्चा में मशगूल है। दफ्तर की पहली मंजिल पर कई महीनों से ठाले बैठे एक भाई ने हमें भी बताया कि कोहनी के गुड़ लगाने में वकील साहब का कोई मुकाबला नहीं है। जब भी पावर की बात चलती है, तो किसी न किसी की कोहनी पर गुड़ लगा देते हैं, कि लग जाओ धार पर, भली करेगा राम। सो मामला फिर टल जाता है। अब तक एक दर्जन से ज्यादा लोगों को मेरिट याद दिला कर उनकी कोहनी मीठी कर चुके हैं। एक भाई की कोहनी तो कुछ ज्यादा ही मीठी हो गई, तो राज से भी पंगा करने में आगा पीछा सब भूल गए।

आसरा सिर्फ नमो का
सूबे में चुनावी जंग के साथ ही नेताओं का देवरे धोकने का सिलसिला भी शुरू हो गया। जोधपुर वाले भाईसाहब भी गणेशजी को पूज रहे हैं, तो मैडम को देवी पर पूरा भरोसा है। दौसा वाले मीनेश वंजश भी पीपलाज माता के सहारे समर में कूदे हैं। लेकिन इन देवरों के साथ एक ऐसा देव भी है, जो सूबे में चर्चा में है। बड़ी चौपड़ से लेकर गांव की चौपालों तक उस देव की चर्चा है। देव का देवरा भी काठियावाड़ में है। सरदार पटेल मार्ग पर बने भगवा के ठिकाने के साथ ही पीसीसी में भी खुसरफुसर है कि अब तो आसरा सिर्फ नमो जाप का है, जितना जाप करेंगे, उतना ही असर दिखाई देगा।

कमल की सुगंध और किताब  
सूबे में इन दिनों सबसे ज्यादा चर्चा में भाजपा और आरएलपी की है। कमल की सुगंध अब बोतल के ढक्कन में आने लगी है। यह दीगर बात है कि बीच-बीच में कांग्रेस भी लोगों की जुबान पर आ जाती है। सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 के साथ इंदिरा गांधी भवन में बने पीसीसी के ठिकाने तक में आरएलपी की चर्चा हुए बिना नहीं रहती। राज का काज करने वाले भी लंच केबिनों में भाजपाइयों के कदम आरएलपी की ओर बढ़ने के मायने अपने हिसाब से निकाल रहे हैं। भारती भवन में भी बैठक, चर्चा और चिंतन का दौर जारी है। चर्चा तो यहां तक है कि खींवसर वाले किसान वंशज भाईसाहब को  हवा देने वाले भी घर के ही हैं। सो घर का भेदी लंका ढहाए वाली कहावत भी चरितार्थ हो रही है। 

Read More NEET में धांधली और गडबडी के गम्भीर आरोप,अनदेखा कर रही भाजपा सरकार : डोटासरा

एक जुमला यह भी
भगवा में इन दिनों एक जुमला जोरों पर है। जुमला भी छोटा-मोटा नहीं, बल्कि चीफ मिनीस्टरी को लेकर है। इसके लिए भाईसाहब और मैडम को अग्नि परीक्षा के दौर का सामना जरूर करना पड़ेगा। समकक्ष नेताओं के चेहरे पर बल दोनों तरफ है। मैडम को षष्ठी पूर्ति कर चुके लोगों के साथ भारती भवन वालों से खतरा है, तो भाईसाहब किसान पुत्रों के नेताओं के शिकंजे से बाहर नहीं निकल पा रहे। जुमला है कि चौकड़ी से बाहर निकल कर जिसने रूठों को मनाने में फतह कर ली, समझो उसकी कुर्सी पक्की है।
    

Read More  सतीश पूनिया ने नए मंत्रियों से मुलाकात कर दी शुभकामनाएं

-एल. एल. शर्मा

Read More अजीत गुट के 15 विधायक शरद पवार के सम्पर्क में

Post Comment

Comment List

Latest News

NDA Government राजस्थान पर मेहरबान, केंद्र ने राज्य को जारी किए 8421.38 करोड़ NDA Government राजस्थान पर मेहरबान, केंद्र ने राज्य को जारी किए 8421.38 करोड़
सबसे ज्यादा यूपी को 25069 करोड़, बिहार को 14056 करोड़, एमपी को 10970 करोड़ की राशि हिस्से के रूप में...
बाड़मेर-ऋषिकेश एक्सप्रेस रेलसेवा एलएचबी रैक से संचालित होगी
राज्यवर्धन ने सूचना सहायक पदों की संख्या बढ़ाई
कांग्रेस ने आंध्रप्रदेश के विशेष दर्जे पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरण
सीएम को लिखा पत्र : निकायों का पुनः परिसीमांकन एवं वार्डों की संख्या के निर्धारण का कार्य पारदर्शी तरीके से हो: राजेंद्र राठौड़
Single Use Plastic Seizure Campaign: 1 लाख 35 हजार रूपये से अधिक जुर्माने के साथ 109 किलो से अधिक प्रतिबंधित सिंगल यूज प्लास्टिक जब्त
निर्मला सीतारमण लगातार 7वां बजट पेश कर बनाएगी रिकॉर्ड, देश की पहली पूर्णकालिक वित्त मंत्री होगी