भाजपा में बयानबाजी पर सख्ती: पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा पर कार्रवाई, अनुशासनहीनता का भेजा नोटिस

भाजपा में बयानबाजी पर सख्ती: पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा पर कार्रवाई, अनुशासनहीनता का भेजा नोटिस

भाजपा में एक गुट के नेताओं की बयानबाजी को लेकर अब प्रदेश भाजपा ने सख्ती दिखाना शुरू कर दिया है। पूर्व मंत्री व विधायक रहे डॉ. रोहिताश्व शर्मा को पार्टी ने बयानबाजी करने पर इसे अनुशासनहीनता मानते हुए गुरुवार को नोटिस थमाया है और आगामी 15 दिन में इसका स्पष्टीकरण मांगा है।

जयपुर। भाजपा में एक गुट के नेताओं की बयानबाजी को लेकर अब प्रदेश भाजपा ने सख्ती दिखाना शुरू कर दिया है। पूर्व मंत्री व विधायक रहे डॉ. रोहिताश्व शर्मा को पार्टी ने बयानबाजी करने पर इसे अनुशासनहीनता मानते हुए गुरुवार को नोटिस थमाया है और आगामी 15 दिन में इसका स्पष्टीकरण मांगा है। रोहिताश्व पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के नजदीकी नेता माने जाते हैं। उनको दिए गए नोटिस में पार्टी ने कहा है कि अगर नोटिस का जवाब नहीं दिया तो मामले को अनुशासन समिति के पास कार्रवाई के लिए भेजकर इस मामले में उन पर कार्रवाई की जाएगी। नोटिस प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा ने जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि भाजपा संगठन पर रोहिताश्व शर्मा ने सार्वजनिक रूप से अनर्गल आरोप लगाए। प्रदेश पदाधिकारियों के लिए अपशब्द का उपयोग किया। पार्टी की छवि खराब की। यह अनुशासन तोड़ने की श्रेणी में आता है।

और भी नेताओं को जा सकते हैं नोटिस
जानकारी के अनुसार शर्मा के साथ ही आगामी एक-दो दिन में और भी नेताओं को नोटिस जा सकते हैं। खासकर उन वसुन्धरा समर्थक नेताओं को जिन्होंने हाल ही में भाजपा ऑफिस के बाहर पूर्व सीएम वसुन्धरा राजे की फोटो होर्डिंग से हटाने के बाद बयान दिए थे। इनमें विधायक व पूर्व मंत्री प्रताप सिंह सिंघवी, पूर्व विधायक भवानी सिंह राजावत, प्रहलाद गुंजल, पूर्व सांसद बहादुर सिंह कोली मुख्य बताए जा रहे हैं। हालांकि गुरुवार देर शाम तक उन्हें नोटिस जारी नहीं किए गए हैं।

रोहिताश्व शर्मा ने हाल ही में अलवर जिले की कोरोना को लेकर हुई भाजपा की वुर्चअल बैठक में बयान दिया था कि भाजपा के नेता दफ्तरों से पार्टी चला रहे हैं। गांव में कोई नहीं जा रहा है। इसके कारण उपचुनाव में पार्टी को हार मिली। इस वक्त राजस्थान में विपक्ष का केंद्र में कांग्रेस जैसा हाल हो गया है। जिस तरह से केंद्र में कांग्रेस विपक्ष के रूप में फेल हो गई है वैसे ही राजस्थान में भाजपा का हाल है। कांग्रेस के खिलाफ भाजपा के नेता भी दफ्तर में बैठकर राजनीति करने में लगे हैं। कहा कि केंद्र में राजस्थान से बने मंत्री व नेता भी अपने क्षेत्रों तक ही सीमित हैं। प्रदेश की सुध लेने वाला कोई नहीं है। नेता सिर्फ नेतागिरी कर रहे हैं। प्रदेश स्तर का अभी कोई नेता नहीं है। इससे प्रदेश भाजपा को नुकसान हो रहा है।

नोटिस अनाधिकृत व्यक्ति ने भेजा, राष्ट्रीय अध्यक्ष को लिखूंगा
पूर्व मंत्री रोहिताश्व शर्मा ने कहा कि मुझे प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा ने नोटिस दिया है। इसमें किसके निर्देश से नोटिस दिया गया है, कहीं नहीं लिखा है। मैं पूर्व मंत्री व तीन बार का विधायक रहा हूं। अनाधिकृत व्यक्ति के नोटिस का जवाब नहीं दूंगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को भी इस बारे में लिखूंगा। नोटिस का जवाब देना है या नहीं इस पर पार्टी की संवैधानिक नीतियों पर स्टडी कर विचार करूंगा।
  

Post Comment

Comment List

Latest News

भारत जोड़ो यात्रा से बदला है राष्ट्रीय राजनीति का परिदृश्य : कांग्रेस भारत जोड़ो यात्रा से बदला है राष्ट्रीय राजनीति का परिदृश्य : कांग्रेस
उन्होंने कहा कि यात्रा को पहले दक्षिण के पांच राज्यों में भारी समर्थन मिला था और जब यात्रा  महाराष्ट्र पहुंची...
झुंझुनूं में विकास की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी : बृजेंद्र ओला
भारतीय संविधान विश्वभर के लोकतंत्रों की सर्वश्रेष्ठ व्याख्या: राज्यपाल मिश्र
खाद की कमीः क्षेत्र में खाद भी राशन की तरह बांटना पड़ा
वसुंधरा राजे हमारी नेता थी, हैं और हमारी नेता रहेगी : कालीचरण सर्राफ
सेना के जवान का बीमारी के चलते निधन राजकीय सम्मान से किया अंतिम संस्कार
भाजपा के टेपन 978 वोट से हुए विजयी