तकनीकी कर्मचारियों की मांगों को लेकर मुख्य अभियंता से मिले जलदाय कर्मी

पदोन्नति आदेशों में वेतन विसंगति को दूर कराने की भी मांग की

तकनीकी कर्मचारियों की मांगों को लेकर मुख्य अभियंता से मिले जलदाय कर्मी

दिशा निर्देश के बावजूद भी तकनीकी कर्मचारियों के पदोन्नति नहीं करने के विरोध में आज राजस्थान वाटर वर्क्स कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप यादव के नेतृत्व में हसनपुरा रोड स्थित जल भवन में मुख्य अभियंता प्रशासन राकेश लुहाडिया से मुलाकात कर पदोन्नति के संबंध में चर्चा की गई।

जयपुर। मुख्यमंत्री की बजट घोषणा के बाद भी जलदाय विभाग के तकनीकी कर्मचारियों के कार्यप्रभारित कर्मचारियों को विभागीय सेवा नियमों की परिधि में लाए जाने एवं पदोन्नति के अवसर उपलब्ध कराने के संबंध में दिशा निर्देश जारी किए थे लेकिन दिशा निर्देश के बावजूद भी तकनीकी कर्मचारियों के पदोन्नति नहीं करने के विरोध में आज राजस्थान वाटर वर्क्स कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप यादव के नेतृत्व में हसनपुरा रोड स्थित जल भवन में मुख्य अभियंता प्रशासन राकेश लुहाडिया से मुलाकात कर पदोन्नति के संबंध में चर्चा की गई।

संघ के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप यादव ने बताया कि 13 मार्च 2023 को बजट घोषणा में कार्यप्रभारीत तकनीकी कर्मचारियों पंप चालक, विद्युत कार ,लाइनमैन, फिटर, स्टोर मुंशी सहित अन्य पदों के कर्मचारियों को पूर्व प्रचलित पदो के स्थान पर टेक्नीशियन प्रथम , द्वितीय, तृतीय नए पदनाम से पदोन्नति के आदेश दिए गए है जो कि सरासर कर्मचारियों के साथ अन्याय है साथ ही पदनाम पदस्थापित में मीटर रीडर, मीटर चेकर, एमआरटी, वाहन चालक, बागवान सहित अन्य पदों को भी शामिल नहीं किया गया है। संघ के प्रदेश प्रवक्ता बाबूलाल शर्मा ने बताया कि सभी तकनीकी पदों में तकनिशीयन के स्थान पर पंप चालक, विद्युत कार,पेंटर ,फीटर आदि के नाम से संशोधित किया जाए व मीटर रीडर , मीटर चेकर ,एमआरटी द्वितीय, वाहन चालक, बागवान आदि को भी सम्मिलित किया जाए अगर मीटर रीडर को इनमें सम्मिलित नहीं किया जाता है तो ऐसे कर्मचारियों को विकल्प बदलने की अनुमति दी जाए। साथ ही पदोन्नति आदेशों में वेतन विसंगति भी रह गई जिसको दूर करवाई जाए। मुख्य अभियंता प्रशासन राकेश लुहाडिया ने बताया कि आपका मांग पत्र पर कार्रवाई करते हुए राज्य सरकार को प्रस्ताव विभाग द्वारा भेज दिये गये है जिन पर अति शीघ्र ही कार्रवाई करवाने का आश्वासन दिया गया।

Tags: Rajasthan

Post Comment

Comment List

Latest News

निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम
नगरीय विकास एवं आवासन विभाग ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें निर्माण कार्यों में खनिज बजरी के विकल्प के...
जल जीवन मिशन कामों की कल होगी समीक्षा, प्रति ग्राम पंचायत दो-दो नल जल मित्र के प्रस्ताव होंगे पारित
राज्य सरकार एवं हुडको के मध्य हुआ एमओयू
शंभू बॉर्डर किसान आंदोलन: बैरिकेडिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया स्वतंत्र समिति बनाने का सुझाव
राजस्थान को मिला 9959 करोड़ रुपए का बजट
कस्टम ड्यूटी में कटौती के बाद सोना-चांदी की खरीदारी में वृद्धि
AAP ने लगाए आरोप- केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली और पंजाब के साथ किया सौतेला व्यवहार